Home » इंडिया » Communal Violence in West Bengal: Mamata Banerjee warns dont violent in the name of lord ram
 

बंगाल हिंसा पर बोलीं ममता बनर्जी- क्या राम ने हथियारों के साथ रैली करने को कहा था?

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 March 2018, 8:57 IST

रामनवमी पर जुलूस को लेकर पश्चिम बंंगाल के कई इलाकों में हिंसा की घटनाएं हुईं. जिसके बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए. उन्होंने कहा किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. इसके अलावा उन्होंने रैली करने वाले लोगोंं पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि क्या भगवान राम ने किसी को हथियारों के साथ रैली करने को कहा था?

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में सोमवार को दूसरे दिन भी हिंसा की घटनाएं हुईं. बंगाल के मुर्शिदाबाद और बर्द्धमान जिलों में कथित भगवा संगठनों के सदस्यों और पुलिस के बीच रैली को लेकर झड़प हुई. इस दौरान बम फटने से एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का हाथ उड़ गया.

इससे पहले पुरुलिया में रामनवमी पर जुलूस के दौरान दो समूहों के बीच झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और पांच पुलिसकर्मी घायल हुए थे. झड़प पर पुलिस का कहना है कि बीजेपी समर्थकों ने पश्चिम बंगाल में रविवार को कई स्थानों पर सरकारी प्रतिबंध की अनदेखी करते हुए सशस्त्र रैली निकाली.

 

सोमवार को मुर्शिदाबाद के कंडी इलाके में तब संघर्ष हुआ जब रामनवमी की रैली में हिस्सा लेने वाले लोगों ने कथित तौर पर तलवार और त्रिशूल से लैस होकर थाने में घुसने का प्रयास किया. पुलिस ने बताया कि इस झड़प में कम से कम 10 लोग घायल हुए. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनीश सरकार ने बताया कि रैली में बीजेपी और विहिप के कार्यकर्ता शामिल थे. उन्होंने कंडी बस स्टैंड से राधाबल्लभ मंदिर तक सुबह तकरीबन साढ़े 11 बजे के करीब रैली आयोजित की थी.

अनीश ने बताया कि जब रैली में हिस्सा ले रहे लोगोंं ने थाना और उसके बाहर खड़े वाहनों पर पथराव कर दिया तो दोनों पक्षों के बीच झड़प हो गई. हालांकि इस हंगामे के लिए बीजेपी नेता सुभाष मंडल ने तृणमूल कांग्रेस के स्थानीय सदस्यों को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने आरोप लगाया कि हंगामा पैदा करने के लिये तृणमूल कांग्रेस के अज्ञात उपद्रवी रैली में शामिल हो गए.

 

बीजेपी नेता के खिलाफ मामला दर्ज
हिंसा को लेकर बीजेपी महिला मोर्चा की पश्चिम बंगाल इकाई की अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. उनके खिलाफ रविवार को राज्य के बीरभूम जिले में सशस्त्र रामनवमी जुलूस में कथित तौर पर हिस्सा लेने के लिए एफआईआर दर्ज की गई है.

पुलिस ने कहा है कि कथित तौर पर शस्त्र लेकर रामनवमी जुलूस में हिस्सा लेने के लिये प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के वीडियो फुटेज की भी जांच की जा रही है. लॉकेट चटर्जी के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है. इसमें शस्त्र के साथ रैली में हिस्सा लेने के लिये गैर जमानती धाराओं के तहत भी मामला दर्ज किया गया है.

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के खड़गपुर में रामनवमी जुलूस में कथित तौर पर तलवार लेकर चलने के बारे में मीडिया में आई खबर का उल्लेख करते हुए एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि वे जुलूस के वीडियो फुटेज की जांच कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर खबर में कही गई बातें सही पाई जाती हैं तो घोष के खिलाफ गैर जमानती धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जाएगा.

पढ़ेंं- मोदी सरकार के खिलाफ आज लोकसभा में 4 अविश्वास प्रस्ताव

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पुलिस को निर्देश दिया कि वह उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे जो रामनवमी पर जुलूस के दौरान तलवार और अन्य हथियार लेकर चल रहे थे. ममता बनर्जी ने राज्य में हुई हिंसा पर कहा, "क्या भगवान राम ने किसी से हथियारों व तलवार के साथ रैली करने को कहा था? क्या हम राज्य प्रशासन और कानून-व्यवस्था को इन गुंडों के हाथों में छोड़ सकते हैं, कौन राम को बदनाम कर रहा है? मैं पुलिस महानिदेशक (डीजी) व सभी पुलिस अधीक्षकों को इस तरह की रैली आयोजित करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दे रही हूं. किसी को भी बख्शा नहीं जाना चाहिए."

First published: 27 March 2018, 8:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी