Home » इंडिया » Condom Use Decreased by 52 Percent in India and abortion Emergency Pills Use Increased
 

सेक्स के दौरान कंडोम के इस्तेमाल से भारतीय युवाओं को नहीं आता मजा- रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2018, 14:10 IST

भारत में गर्भनिरोध साधनों का प्रयोग लगातार घटता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक चौंकाने वाली सच्चाई सामने आई है, स्वास्थ्य मंत्रालयय ने इन आंकड़ों को साल 2008 से 2016 के बीच एक सर्वे में जुटाया गया. जिसमें पता चला कि देश में टोटल फर्टिलिटी रेट (TFR) में कमी आने के साथ ही परिवार नियोजन के साधनों का प्रयोग भी लगातार कम होता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 8 सालों के दौरान देश में कंडोम के प्रयोग में करीब 52 फीसदी की कमी आई है.

यही नहीं नसबंदी कराने के मामले भी 75 प्रतिशत तक कम हुए हैं. इसके साथ ही सामान्य गर्भनिरोधक गोलियों के प्रयोग में भी करीब 30 फीसदी की कमी दर्ज की गई है. मंत्रालय की रिपोर्ट में बताया गया है कि देश के ज्यादातर कपल्स अब परिवार नियोजन के लिए अबॉर्शन और इमरजेंसी पिल्स का ज्यादा प्रयोग कर रहे हैं.

रिपोर्ट बताती है कि अगर हर तरह के कॉन्ट्रासेप्टिव्स के बारे में बात करें तो इनके कुल इस्तेमाल में 35 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. जहां तक कंडोम के प्रयोग की बात है तो केरल जैसे सबसे ज्यादा साक्षरता दर वाले राज्य में इसमें 42 प्रतिशत तक की कमी आई है और इसके उलट बिहार में इसका प्रयोग करने वालों की संख्या पिछले 8 सालों के दौरान 4 गुना वृद्धि हुई है. इसके साथ ही बिहार में गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल भी बढ़ा है.

एक तरफ जहां पिछले 8 सालों में कंडोम और गर्भनिरोधकों के इस्तेमाल में कमी आयी है वहीं इमरजेंसी कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स के इस्तेमाल में 100 फीसदी तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इमरजेंसी पिल्स के साइड इफेक्ट होने के बावजूद इसमें वृद्धि होना हमें सोचने पर मजबूर करती है. क्योंकि इससे इन्फर्टिलिटी, पीरियड्स साइकल में गड़बड़ी और पीरियड्स के दौरान जरूरत से ज्यादा ब्लीडिंग जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

देश में इमरजेंसी पिल्स के इस्तेमाल में ही वृद्धि नहीं हुई है बल्कि पिछले आठ सालों में अबॉर्शन के मामले भी दो गुने हए हैं. वहीं बहुत से मामलों में तो महिलाएं अबॉर्शन के लिए डॉक्टर के पास भी नहीं जाती, बल्कि खुद ही दवाइयों के जरिए अनचाहे गर्भ को खत्म करने की कोशिश करती हैं जो बेहद खतरनाक साबित हो सकता है.

ये भी पढ़ें- महिलाओं के बिना कृषि और डेयरी सेक्टर की कल्पना नहीं है संभव: पीएम मोदी

First published: 12 July 2018, 13:59 IST
 
अगली कहानी