Home » इंडिया » Congress leader Saifuddin Soz says Pervez Musharraf was right that Kashmiris to be independent
 

कांग्रेस के सीनियर नेता सैफुद्दीन सोज ने कश्मीर को आजाद करने की मुशर्रफ की मांग का किया समर्थन

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2018, 9:03 IST

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के सीनियर नेता सैफुद्दीन सोज ने जम्‍मू कश्‍मीर को स्वतंत्र किये जाने की मांग का समर्थन किया है. सैफुद्दीन सोज ने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ के एक दशक पहले उस बात का समर्थन किया है जिसमें मुशर्रफ ने कहा था कि अगर कश्मीर के लोग जनमत संग्रह से अलग होना चाहते हैं तो उन्हें मौका देना चाहिए. सैफुद्दीन सोज ने अपनी एक आने वाली किताब में लिखा है कि केंद्र सरकार को कश्मीर मसले का हल निकालने के लिए मुख्यधारा की पार्टियों के पास जाने से पहले हुर्रियत के नेताओं से बात करनी चाहिए.

दरअसल एक दशक पहले जब परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे तब उन्होंने कश्मीरी लोगों के लिए जनमत संग्रह कराने की बात कही थी. मुशर्रफ ने कश्मीर से सैनिकों को चरणबद्ध तरीके से हटाए जाने का भी सुझाव दिया था और संयुक्त रूप से एक तंत्र पर काम करने की बात कही थी.

कांग्रेस नेता ने यह भी दावा किया कि 1953 से लेकर अब तक कि विभिन्न केंद्र सरकारों ने कश्मीरियों के साथ धोखा किया है. उन्होंने दावा किया कि जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी की अध्यक्षता वाली सरकारों ने भी कश्मीरियों का दिल तोड़ा है. 

अपनी पुस्तक 'कश्मीर: ग्लिम्प्स ऑफ़ हिस्ट्री एंड द स्टोरी ऑफ स्ट्रगल' में उन्होंने इन सब बातों का जिक्र किया. आपको बता दें उनकी यह पुस्तक अगले हफ्ते रिलीज होगी. पुस्तक में सोज का कहना है कि कश्मीर के समाधान को ढूंढने की प्राथमिक ज़िम्मेदारी केंद्र सरकार की है. उन्होंने कहा कि अगर कश्मीरियों के प्रति दया का भाव दिखाना है तो कश्मीरियों के साथ बातचीत शुरू करें.

पढ़ें-पीएम मोदी को अविवाहित बताने वाली आनंदीबेन को जसोदाबेन का जवाब- वो मेरे राम हैं

बता देें कि इससे पहले सैफुद्दीन सोज ने जम्‍मू कश्‍मीर से आर्म्‍ड फोर्सेज स्‍पेशल(पावर) एक्‍ट(आफ्स्‍पा) हटाने की मांग की थी. उन्‍होंने कहा था कि जब यूपीए सरकार थी तब रक्षामंत्री को छोड़कर बाकी सभी आफ्स्‍पा को हटाने को राजी थे. उन्होंने कहा था कि आफ्सपा की वजह से देश की बदनामी हुई है और इसकी जरूरत नहीं है.

 

First published: 22 June 2018, 8:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी