Home » इंडिया » Congress Plenary Session: Rahul gandhi made his first speech after becoming president
 

कांग्रेस महाधिवेशन: राहुल ने अध्यक्ष बनने के बाद दिया पहला भाषण, 10 बड़ी बातें

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 March 2018, 11:50 IST

दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में राहुल गांधी की अध्यक्षता में पहली कांग्रेस पार्टी का अधिवेशन हो रहा है. इस अधिवेशन मेंं कई अहम चुनौतियों पर चर्चा की जा रही है. अधिवेशन मेें लगभग बीस हजार प्रतिनिधि शामिल हैं. अधिवेशन में राजनीतिक प्रस्ताव पास होने के साथ-साथ यूपीए का कुनबा बढ़ाने पर भी जोर रहेगा.

महाधिवेशन को राहुल गांधी ने संबोधित करते हुए कहा आज देश में गुस्सा फैलाया जा रहा है. देश को बांटने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने अधिवेशन में बदलाव की बात की. उन्होंने कहा कि भाजपा गुस्से की राजनीति करती है हम प्यार की राजनीति करते हैं.

पढ़ेंं- राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस का पहला महाअधिवेशन, 20 हजार से ज्यादा प्रतिनिधि शामिल

राहुुल ने कहा आज देश थका है रास्ता ढूंढने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने कहा किसानों युवाओं को रास्ता नहीं दिख रहा है. उन्होंने कहा कांग्रेस देश को रास्ता दिखाने का काम करेगी. हम बीते हुए वक्त को भुलते नहीं हैं.

आप भी जानिए अधिवेशन की मुख्य बातें-

1-राहुल गांधी की अध्यक्षता में पहली बार हो रहा है कांग्रेस का महाधिवेशन. यह महाधिवेशन इसलिए भी खास है क्योंकि यह 8 साल बाद हो रहा है. पहली बार संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने सबसे पहले अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का अभिवादन किया.

2-इस महाधिवेशन की मुख्य नजर 2019 में होने वाले आम चुनाव पर होगी. महाधिवेशन में पहली कतार में सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे और मनमोहन सिंह सहित बड़े नेता मौजूद हैं. महाधिवेशन को संबोधित करते हुए एक तरह से बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि हम अपने सीनियर नेताओं को नहीं भूलते हैं. हमारे पार्टी के नेता जैसे मनमोहन सिंह पार्टी के लिए लड़ते हैं.

3-उद्घाटन भाषण के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि आज देश में गुस्सा फैलाया जा रहा है, देश को बांटा जा रहा है. हिंदुस्तान के एक व्यक्ति को दूसरे व्यक्ति से लड़वाया जा रहा है.

4-कांंग्रेस पार्टी की बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि हमारा काम जोड़ने का है. कांग्रेस का निशान ही देश को जोड़ कर रख सकता है. उन्होंने कहा कि हमारा काम देश और युवाओं को जोड़ने का है, सबको राह दिखाने का काम है. हम पीछे की बात नहीं भूलते हैं. हम सबको साथ लेकर चलते हैं.

5-राहुल ने कहा कि देश को सिर्फ कांग्रेस पार्टी ही रास्ता दिखा सकती है. कांग्रेस पार्टी में और विपक्ष में क्या फर्क है? एक फर्क है कि वह गुस्से का प्रयोग करते हैं, हम प्यार का और भाईचारे का प्रयोग करते हैं. उन्होंने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, ये देश हम सबका है, हर जात का है, हर धर्म का है. कांग्रेस पार्टी जो भी करेगी, वह सबके लिए करेगी.

6-उन्होंने कहा कि यह महा अधिवेशन भविष्य की बात कर रहा है, बदलाव की बात कर रहा है.

7-मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए राहुल ने कहा कि उन्हें ये बात समझ नहीं आती कि रोजगार कब मिलेगा, किसानों को उनके हक कब मिलेंगे?

8-बताया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी चार प्रस्ताव पारित करेगी. इनमें राजनीतिक, आर्थिक, विदेशी मामलों तथा कृषि, बेरोजगारी एवं गरीबी उन्मूलन के विषय शामिल होंगे.

9-पार्टी प्रत्येक क्षेत्र के बारे में अपना दृष्टिकोण रखेगी और वर्तमान परिदृश्य से उसकी तुलना की जाएगी. दो दिन के गहन विचार विमर्श सत्र में राजनीतिक स्थिति सहित दो प्रस्तावों को पहले दिन लिया जाएगा.

10-सूत्रों ने कहा कि राजनीतिक प्रस्ताव में समान विचारों वाली पार्टियों के साथ गठबंधन करने के बारे में पार्टी की योजना का संकेत मिलेगा. यूपीए संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रात्रि भोज में 20 विपक्षी दलों के नेताओं को बुलाकर इस दिशा में पहल की है.

First published: 17 March 2018, 11:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी