Home » इंडिया » Congress releases its Rajya Sabha candidate list, Chidambaram, Jairam and Sibal included in 7 nominees
 

चिदंबरम और सिब्बल समेत आठ को राज्यसभा भेजेगी कांग्रेस

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2016, 12:06 IST

कांग्रेस ने जून में होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है. पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम, पूर्व कानून मंत्री कपिल सिब्बल और जयराम रमेश का नाम इसमें शामिल है.

कांग्रेस ने कुल आठ उम्मीदवारों की सूची जारी की है. जिनके नाम हैं- पी चिदंबरम, ऑस्कर फर्नांडिस, जयराम रमेश, अंबिका सोनी, विवेक तन्खा, कपिल सिब्बल, प्रदीप टम्टा और छाया वर्मा.

पूर्व कानून मंत्री कपिल सिब्बल को लोकसभा चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा था. अंबिका सोनी पंजाब से राज्यसभा की सदस्य थीं. उनका कार्यकाल भी खत्म हो चुका है.

चिदंबरम का नाम आखिर में फाइनल

कांग्रेस के 14 सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो रहा है, लेकिन इस बार वो केवल आठ को ही राज्यसभा भेज सकेगी. कांग्रेस को सात सीटों पर जीत की पक्की उम्मीद है. इनमें से दो सीट कर्नाटक, जबकि महाराष्ट्र, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, पंजाब और मध्य प्रदेश में एक-एक सीट पर उसकी जीत तकरीबन तय है.

इसके अलावा कांग्रेस उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की मदद से एक सीट पर जीत की उम्मीद कर रही है. जबकि कर्नाटक में जनता दल (एस) से बातचीत के जरिए वो एक सीट हासिल करने की कवायद में है.

सूत्रों के मुताबिक पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम का नाम एन वक्त में फाइनल हुआ है. माना जा रहा है कि हाल ही में इशरत जहां एनकाउंटर मामले को लेकर केंद्र सरकार को जवाब के तौर पर कांग्रेस चिदंबरम को राज्यसभा में उतार रही है. जिससे इस मामले में वो आक्रामक रुख अख्तियार कर सके.

कांग्रेस की लिस्ट में कई वकील

कांग्रेस ने जिन उम्मीदवारों को राज्यसभा भेजने के लिए चुना है, उनमें से ज्यादातर वकील हैं. कर्नाटक से जयराम रमेश और ऑस्कर फर्नांडिस, महाराष्ट्र से पी चिदंबरम और उत्तर प्रदेश से कपिल सिब्बल को राज्यसभा भेजा जा रहा है.

पंजाब से अंबिका सोनी, छत्तीसगढ़ से छाया वर्मा, उत्तराखंड से प्रदीप टम्टा और मध्य प्रदेश कोटे से विवेक तन्खा को राज्यसभा भेजा जाएगा. सिब्बल के नाम पर कांग्रेस पसोपेश में थी. उनका नाम यूपी, उत्तराखंड और बिहार से चल रहा था. अंबिका को कांग्रेस ने लगातार पांचवीं बार राज्यसभा से भेजने पर मुहर लगाई है.

सिब्बल को सुब्रमण्यम स्वामी और अरुण जेटली जैसे कानून के जानकारों के जवाब के तौर पर देखा जा रहा है. जयराम रमेश और ऑस्कर फर्नांडिस को दोबारा मौका मिला है. छत्तीसगढ़ से कांग्रेस उम्मीदवार की लिस्ट में अजित जोगी का नाम शामिल था, लेकिन आखिर में छाया वर्मा को जगह मिली.

मध्य प्रदेश में विवेक तन्खा के अलावा शोभा ओझा और विजयलक्ष्मी का नाम चर्चा में था. विजयलक्ष्मी की राज्यसभा सीट हाल ही में खाली हुई है. तन्खा कांग्रेस के लिए वकालत करने के अलावा दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाते हैं.

राज्यसभा में 57 सदस्यों का कार्यकाल हाल ही में पूरा हुआ है. नए सदस्यों के लिए 11 जून को चुनाव होना है. कांग्रेस को उम्मीद है कि दूसरी पार्टियों के सहयोग से उसे कुल नौ राज्यसभा सीटों पर कामयाबी मिल सकती है.

राज्यसभा में फिलहाल कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है. इसी वजह से केंद्र सरकार जीएसटी बिल को पास करवाने में नाकाम रही. कांग्रेस को इस बार राज्यसभा चुनाव में पांच सांसदों का नुकसान झेलना पड़ेगा.

बीएसपी से ब्राह्मण-दलित उम्मीदवार

इस बीच बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने लखनऊ में राज्यसभा चुनाव के लिए नामंकन दाखिल किया. उनके अलावा अशोक सिद्धार्थ ने भी बीएसपी से पर्चा दाखिल किया है.

पर्चा भरने के बाद बीएसपी महासचिव ने पार्टी अध्यक्ष मायावती का शुक्रिया जताते हुए कहा कि यूपी से मुझे तीसरी बार राज्यसभा भेजा जा रहा है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बीेएसपी क्रिकेट नहीं खेलती और न ही टीम बनाती है. जो लोग खेलते हैं, उन्हें खेलने और टीम बनाने दीजिए.

खास बात ये है कि बीएसपी ने जिन दो लोगों को राज्यसभा का टिकट दिया है, उनमें से एक ब्राह्मण और दूसरा दलित समाज से है. 2007 के चुनाव में मायावती का ब्राह्मण-दलित गठजोड़ कामयाब रहा था. पूर्ण बहुमत के साथ बीएसपी की सरकार बनने को सोशल इंजीनियरिंग का कमाल माना गया.

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 11 सीटों के लिए जून में चुनाव है. संख्याबल के लिहाज से एक सीट के लिए 37 विधायकों की जरूरत है. बीएसपी के पास 403 सदस्यीय विधानसभा में 80 विधायक हैं. ऐसे में उसकी दोनों सीटें पक्की हैं.

बीएसपी अध्यक्ष मायावती के साथ सतीश चंद्र मिश्र (पीटीआई)
First published: 29 May 2016, 12:06 IST
 
अगली कहानी