Home » इंडिया » congress vice president rahul gandhi makes party new president after 19 years, no one filed nomination against him
 

कांग्रेस को 19 साल बाद मिलेगा नया अध्यक्ष, निर्विरोध चुने जाएंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2017, 17:55 IST

कांग्रेस मे राहुल युग की शुरुआत का रास्ता पूरी तरह साफ हो चुका है. सोमवार को नामांकन के आखिरी दिन किसी और नेता ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ नामांकन नहीं भरा. इसके बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का निर्विरोध अध्यक्ष बनना तय हो गया है. हम आपको बता दें कि कांग्रेस को 19 साल बाद नया अध्यक्ष मिलने जा रहा है. सोनिया गांधी ने साल 1998 में सीताराम केसरी को हटाकर अध्यक्ष पद संभाला था. और आधिकारिक तौर पर वो अभी भी पार्टी की मुखिया हैं.

कांग्रेस ने चुनाव समिति ने राहुल गांधी के नामांकन के बाद मीडिया को संबोधित किया. कांग्रेस के सीनियर नेता मधुसूदन मिस्त्री ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेेंस कर बताया कि पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी के अलावा किसी और व्यक्ति ने नामांकन नहीं भरा है. उन्होंने कहा कि एक से ज्यादा नामांकन होने पर ही चुनाव होगा. मधुसूदन मिस्त्री ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के समर्थन में 89 नामांकन भरे गए हैं. राहुल के समर्थन में कुल 890 प्रस्तावक हैं.

गौरतलब है कि पांच दिसंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी. 11 दिसंबर को नाम वापस लेने की आखिरी तारीख है और उसी दिन राहुल के नाम का औपचारिक ऐलान कर दिया जाएगा. 

इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को पार्टी हेडक्वार्टर में पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भर दिया है. सोमवार को नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख थी. राहुल गांधी के नामांकन दाखिल करते समय उनके साथ कई सीनियर नेता मौजूद रहे.

यूपीए के कार्यकाल के दौरान प्रधानमंत्री रहे मनमोहन सिंह, दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित, मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख नेता और राहुल के करीबी ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई सीनियर कांग्रेसी नेता इस मौके पर राहुल के साथ थे.

राहुल गांधी की तरफ दाखिल किए गए पहले सेट के लिए सोनिया गांधी के करीबी अहमद पटेल, पुडुचेरी के सीएम नारायण सामी, पूर्व दिल्ली सीएम शीला दीक्षित, कांग्रेस के सीनियर नेता मोतीलाल वोरा, कमलनाथ, मोहसिना किदवई, तरुण गोगोई और अशोक गहलोत प्रस्तावक बने. 

गौरतलब है कि राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान पूरी तरफ से सौंपने की बात लंबे समय से हो रही है. इसी कड़ी में उन्हें 2013  में कांग्रेस के राष्ट्रीय अधिवेशन में उपाध्यक्ष बनाया गया था. जानकारों के मुताबिक उस समय राहुल गांधी पहले अध्यक्ष पद संभालने को लेकर तैयार नहीं थे.

हाल ही में राहुल गांधी के हामी भरने के बाद पार्टी के अंदर राहुल की ताजपोशी की तैयारियां जोरों से चल रही थी और कांग्रेस वर्किंग कमेटी में इसकी नींव रखी गई. यहां अगले अध्यक्ष पद के लिए चुनावी प्रक्रिया का ऐलान हुआ. राहुल के नामांकन के वक्त कांग्रेस के दिल्ली स्थित हेडक्वार्टर के बाहर काफी नेता और कार्यकर्ता इकठ्ठा हुए हैं.

First published: 4 December 2017, 17:55 IST
 
अगली कहानी