Home » इंडिया » congress will withdraw all cases from dalit of last 15 years, kamal nath decided after mayawati threat of support
 

सत्ता बचाने के लिए मायावती से डरी कांग्रेस, दलितों के लिए उठाया ये बड़ा कदम

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2019, 8:07 IST

मध्य प्रदेश में नई बनी कांग्रेस की सरकार ने फैसला किया है कि वह एससी-एसटी ऐक्ट को विरोध प्रदर्शन के दौरान दलितों पर दर्ज हुए केस को वापस लेगी. ऐसा कहा जा रहा है कि मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ये फैसला बसपा सुप्रीमो मायावती के समर्थन वापसी के बयान के बाद लिया है. गौरतलब है कि बीती सोमवार को ही मायावती ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि अगर एमपी में दलितों पर लगे केस वापस नहीं हुए तो वह कांग्रेस को दिए अपने समर्थन को वापस लेने पर विचार करा सकती हैं.

जानकारों की मानें तो मायावती की इस धमकी के बाद ही सत्ता बचने के लिए कमलनाथ के नेतृत्व में एमपी की कांग्रेस सरकार ने दलितों पर लगे उन सभी केस को वापस करने का ऐलान किया है जो कि भाजपा सरकार में उन पर लगाए गए थे. इतना ही नहीं एमपी में दलितों पर बीते 15 सालों में दर्ज हुए इस तरह के बाकी केसों को भी वापस लिए जाने की घोषणा की गई है.

इस मामले में मध्य प्रदेश के कानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा, ''एससी/एसटी ऐक्ट 1989 को लेकर 2 अप्रैल 2018 को हुए भारत बंद के दौरान लगाए गए केसों के साथ-साथ इस तरह के सभी केस जो पिछले 15 सालों में बीजेपी ने लगाए हैं, उन्हें वापस लिया जाएगा.''

हादसों का साल बनकर आया 2019, 8 साल के बच्चे की गोली लगने से मौत, अन्य हादसों में गई 6 लोगों की जान
क्या कहा था मायावती ने

गौरतलब है कि बीते सोमवार को बसपा मुखिया मायावती ने एक बयान जारी करते हुए कहा था, ''भारत बंद के दौरान यूपी सहित बीजेपी शासित राज्यों में जातिगत और राजनीतिक द्वेष की भावना के तहत कार्रवाई में लोगों को फंसाया गया है. ऐसे लोगों के खिलाफ चल रहे केस को वहां (एमपी और राजस्थान में) बनीं कांग्रेसी सरकारें वापस लें. अगर इस मांग पर कांग्रेस सरकार ने अविलंब कार्रवाई नहीं की तो हम उसे बाहर से समर्थन देने के बारे में पुनर्विचार कर सकते हैं.' बीएसपी की इस धमकी के बाद कांग्रेस की टेंशन बढ़ गई थी.''

बता दें कि अप्रैल 2018 में एससी/एसटी ऐक्ट को लेकर देश भर में दलितों का आंदोलन हुआ था, इस आंदोलन के दौरान सबसे ज्यादा केस राजस्थान और मध्य प्रदेश में दर्ज किए गए थे. मायावती की इस धमकी के बाद कांग्रेस ने एमपी में तो दलितों पर से केस वापस का फैसला किया है अब राजस्थान में सरकार इस मसले पर क्या फैसला लेती है ये अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है.

First published: 2 January 2019, 8:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी