Home » इंडिया » Coronavirus can transmit 4.5m in closed air-conditioned environment: study
 

मेट्रो और एसी बसों में तेजी से फैलता है कोरोना वायरस- रिसर्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2020, 20:46 IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) अब किसी महामारी का रूप ले चुका है. इसी साल जनवरी महीने में चीन के वुहान (Wuhan) शहर सेफैले इस वायरस के कारण अभी तक कुल 3830 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि डेढ़ लाख से अधिक लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके है. कोरोना वायरस का कहर इसलिए भी ज्यादा हैं क्योंकि अभी तक इसकी कोई दवा नहीं बनी है और वायरस के बारे में ज्यादा जानकारी लोगों के पास नहीं है. वहीं अब एक रिसर्च में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस एसी बसो और मेट्रे में अधिक तेजी से फैलता है.

इस अध्ययन के मुताबिक एयर कंडीशंड बसों, मेट्रों में कोरोना वायरस से संक्रमित मरिजों के साथ सफ़र करने पर आपको यह वायरस अपनी चपेट में ले ले, इसका खतरा काफी अधिक बढ़ जाता है. यह अध्ययन कोरोना से संक्रमित ऐसे लोगों पर की गई है जो कि एक बस यात्रा के बाद संक्रमित पाए गए थे. COVID -19 से संक्रमित दर्जन भर से अधिक यात्रियों के अध्ययन के बाद बताया गया है कि एयर कंडीशंड जगह पर कोरोनोवायरस कम से कम 30 मिनट तक जीवित रह सकते हैं और वो 4.5 मीटर तक आसानी से फैल सकते है.

चीन के अखबरा ग्लोबल टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के ल्यू काईवेई, हाई जेंग और अन्य ने मिलकर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है.

यह अध्ययन हुनान प्रांत में एक समूह को हुए संक्रमण के बाद किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार एक व्यक्ति जो कोरोना वायरस से संक्रमित था और उसने कोई मास्क नहीं लगाया था वो एक ऐसी बस में चढ़ा जिसके कारण उस बस में मौजूद आठ अन्य लोगों को कोरोना वायरस ने अपनी जकड़ में ले लिया. इसके अलावा इस व्यक्ति ने एक अन्य शटल ली थी जिसमें सफर कर रहे दो और लोग संक्रमित पाए गए.

इस अध्ययन में सबसे चौकाने वाली बात यह है कि कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति पहले जिस बस में चढ़ा था उस बस में आधे घंटे बाद एक अन्य व्यक्ति चढ़ा जिसने भीमास्क नहीं लगाया था  वो भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. इसके बाद ये माना जा रहा है कि वायरस बंद वातानुकूलित वातावरण में कम से कम 30 मिनट तक जीवित रह सकता है. जिस व्यक्ति को यह वायरस था और उसने जिस बस में यात्रा की थी उसमें उसके सबसे पास खड़ा व्यक्ति और कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के बीच की दूरी महज 0.5 मीटर थी और अधिकतम दूरी 4.5 मीटर थी.

इस नई रिसर्च के सामने आने के बाद दुनिया भर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं. हालांकि इस अध्ययन में एक बात और साफ कही गई है कि जिन व्यक्ति ने मास्क नहीं पहना था कोरोना वायरस उन्हें ही हुआ था. वहीं एक चिंता की बात और है. अभी तक माना जा रहा था कि यह वायरस हवा के जरिए नहीं फैलता लेकिन नए अध्ययन के बाद इस दावे पर भी सवाल खड़े हो रहे है.

कोरोना वायरस ने चीन के बाद इटली में मचाया कोहराम, दुनियाभर में 3,830 लोगों की मौ

First published: 9 March 2020, 17:07 IST
 
अगली कहानी