Home » इंडिया » Coronavirus: COVID-19 impotency rumour complete nonsense says DCGI
 

Coronavirus: क्या कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद व्यक्ति हो जाएगा नपुंसक, जानिए DCGI ने क्या कहा

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 January 2021, 20:07 IST

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रहे भारत के लिए रविवार को एक बड़ी खुशखबरी आई. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने रविवार को ऑक्सफोर्ड की कोरोना वायरस वैक्सीन- कोवीशील्ड और भारत बॉयोटेकी कौवैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन कोवि-19 के खिलाफ 70 फीसदी से अधिक कारगर है जबकि भारत बॉयोटेकी की वैक्सीन कितनी असरदार है, इसकी जानकारी अभी सावर्जनिक नहीं हुई है और वैक्सीन अभी भी ह्यूमन ट्रायल के तीसरे चरण में हैं.

वहीं कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर शुरू में इस तरह की अफवाहें थी कि इस वैक्सीन को लेने के बाद व्यक्ति को नपुंसक बना सकती है. वहीं रविवार को जब DCGI के वीजी सोमानी ने इसको लेकर सवाल किया तो उन्होंने इस तरह की अफवाहों को पूरी तरह से बकवास बताया.

DCGI के वीजी सोमानी ने कहा,"अगर सुरक्षा को लेकर जरा भी संदेह होता तो हम कभी इसे मंजूर नहीं करते. टीके 110% सुरक्षित हैं. हल्के बुखार, दर्द और एलर्जी जैसे कुछ दुष्प्रभाव हर टीका के लिए आम हैं. इस टीके से लोग नपुंसक हो सकते हैं, ये बात पूरी तरह बकवास है."

DCGI के निदेशक वीजी सोमानी ने बताया कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और दोनों को आपात स्थिति में इस्तेमाल किया जा सकता है. इन दोनों वैक्सीन की दो डोज व्यक्ति को दी जाएगी. फाइजर की वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए -70 डिग्री की जरूरत होती है, लेकिन ऑक्सफोर्ड और भारत बॉयोटेक की वैक्सीन को 2-8 डिग्री तापमान में सुरक्षित रखा जा सकता है.


कोवीशील्ड को ऑक्सफोर्ड और एस्टाजेनेका ने मिलकर विकसित किया है और सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया इसका उत्पादन कर रही है, जबकि कौवैक्सीन को भारत बॉयोटेक और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा विकसित किया जा रहा है.

एक दिन पहले कहा था नहीं लगवाऊंगा कोरोना वैक्सीन, अब अखिलेश यादव बोले- ये लोगों के जीवन का विषय

First published: 3 January 2021, 20:01 IST
 
अगली कहानी