Home » इंडिया » coronavirus defeated in south korea know how they finished
 

गजब! बिना लॉकडाउन, बिना बाजार बंद किए इस देश ने कोरोना को हरा दिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2020, 13:11 IST

कोरोना वायरस (coronavirus) के चलते पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. आए दिन लॉकडाउन की खबरें सामने आ रही हैं. इस वायरस से जंग में पूरी दुनिया में कर्फ्यू जैसे हालात बन गए हैं. लेकिन इसी बीच एक ऐसा देश भी हैं जिसने बिना लॉक डाउन किए बिना बाजार बंद किए कोरोना वायरस से जंग जीत ली है. जी हां ये चीन का पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया है.

चीन के वुहान से दक्षिण कोरिया की दूरी मात्र 1382 किलोमीटर ही है. लेकिन फिर भी तेजी से दुनिया में पैर पसारने वाले कोरोना वायरस इस देश से हार गया. इस देश के लोगों ने इसे हराने के कई तरीके अपनाएं. जो उनके लिए कारगर साबित हुए. इस देश ने जिस तरह से कोरोना को हराने के लिए लड़ाई लड़ी है, वो वाकई तारीफेकाबिल है. उसे अब पूरी दुनिया में मॉडल माना जा रहा है .

कोरोना वायरस ने इटली, स्पेन, फ्रांस और ईरान में मचाई तबाही, दुनियाभर में 18,000 से ज्यादा मौतें

आज दक्षिण कोरिया कोरोना संक्रमित देशों की लिस्ट में आठवें नंबर पर है. यहां संक्रमण के 9137 मामले मिले हैं. 3500 से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं. 129 लोगों की मौत हुईं हैं. जबकि सिर्फ 59 मरीज ही गंभीर स्थिति में हैं.

दरअसल ये स्थिति पहले नहीं थीं. 8-9 मार्च को 8000 संक्रमित लोगों के मामले सामने आए थे. लेकिन बीते दो दिन में सिर्फ 12 मामले मिले हैं. अंचभे वाली बात ये है कि पहला मामला मिलने से आज तक यहां न लॉकडाउन हुआ और न ही बाजार बंद हुए.

द. कोरिया के विदेश मंत्री कांग युंग वा ने बताया कि जल्द टेस्ट और बेहतर इलाज से ही कोरोना वायरस के मामले कम हुए हैं. इसलिए मौतें भी कम हुई. हमने 600 से ज्यादा टेस्टिंग सेंटर खोले, 50 से ज्यादा ड्राइविंग स्टेशनों पर स्क्रीनिंग की.

 चीनी विदेश मंत्री ने एस जयशंकर को किया फोन, कोरोना वायरस को लेकर की ये मांग

उन्होंने बताया कि रिमोट टेम्परेचर स्कैनर और गले की खराबी जांची जिसमें महज 10 मिनट लगें. एक घंटे के अंदर रिपोर्ट मिले, इसकी व्यवस्था की गई थी. हमने हर जगह पारदर्शी फोनबूथ को टेस्टिंग सेंटर में तब्दील किया. द. कोरिया में संक्रमण जांचने के लिए सरकार ने बड़ी इमारतों, होटलों, पार्किंग और सार्वजनिक स्थानों पर थर्मल इमेजिंग कैमरे लगाए. जिससे बुखार पीड़ित व्यक्ति की तुरंत पहचान हो सके.

इसी के साथ होटलों और रेस्टोरेंट में भी बुखार जांचने के बाद कस्टमर को अंदर जाने की अनुमति देते थे. विशेषज्ञों ने लोगों को संक्रमण से बचने के लिए हाथों के इस्तेमाल का तरीका भी सिखाया. अगर व्यक्ति दाएं हाथ से काम करता है, तो उसे मोबाइल चलाने, दरवाजे का हैंडल पकड़ने और हर छोटे-बड़े काम में बाएं हाथ का इस्तेमाल करने भी सलाह दी गई.

लॉकडाउन के दौरान भी चालू रहेंगी ये सेवाएं, 21 दिनों तक किसी जरूरी सामान की नहीं होगी कमी

First published: 25 March 2020, 13:11 IST
 
अगली कहानी