Home » इंडिया » Coronavirus: Finance Minister Nirmala Sitharaman address a Press Conference
 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस- प्रवासी मजदूरों, किसानों पर मोदी सरकार का फोकस

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 May 2020, 16:54 IST

Coronavirus: प्रधानमंत्री मोदी ने दो दिन पहले अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी. इस मुद्दे पर आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बार फिर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. इस दौरान वित्त मंत्री ने मध्यम वर्ग, किसानों और गरीबों के लिए बड़ा ऐलान किया.

वित्त मंत्री ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की मजबूती के लिए 3 लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया. निर्मला सीतारमण ने कहा कि MSME की बेहतरी के लिए सरकार छह बड़े कदम उठाएगी. इसके तहत बिना गारंटी के तीन लाख करोड़ का लोन मिलेगा. 

वित्त मंत्री ने सभी तरह की इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि को 31 जुलाई, 2020 तथा 31 अक्टूबर, 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर, 2020 तक कर दिया. वित्त मंत्री ने कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) और नियोक्ता के अंशदान के लिए 2,500 करोड़ रुपये के पैकेज का भी ऐलान किया. इस प्रोत्साहन योजना को वित्त मंत्री ने अगस्त तक के लिये बढ़ाने की बात की.

वित्त मंत्री ने शहरी गरीबों के लिए भी राहत पैकेज का ऐलान किया. वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों को आपदा प्रबंधन कोष से खर्च की इजाजत है. राज्यों को 11002 करोड़ रुपए SDRF को मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार ने दिया. शेल्टर होम में तीन समय का भोजन उपलब्ध कराया गया.

निर्मला सीतारमण ने बताया कि इस दौरान 12 हजार स्वयं सहायता समूह ने 3 करोड़ मास्क बनाए तथा 1 लाख 20 हजार लीटर सेनेटाइजर का उत्पादन किया. उन्होंने बताया कि देश में 15 मार्च के बाद से 7200 हज़ार नए स्वयं सहायता समूह बनाये गए.

निर्मला सीतारमण ने बताया कि इस दौरान 12 हजार स्वयं सहायता समूह ने 3 करोड़ मास्क बनाए तथा 1 लाख 20 हजार लीटर सेनेटाइजर का उत्पादन किया. उन्होंने बताया कि देश में 15 मार्च के बाद से 7200 हज़ार नए स्वयं सहायता समूह बनाये गए. किसानों के लिए इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम बढ़ाकर 31 मई तक किया गया.

वित्त मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार ने किसानों के लिए 86 हजार 600 करोड़ लोन की मंजूरी देने जा रही है. इसके अलावा किसानों को 25 लाख नए क्रेडिट कार्ड जारी किए जा रहे हैं.

वित्त मंत्री ने बताया कि प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के जरिये काम दिया जा रहा है. 2.33 करोड़ मजदूरों को मनरेगा के तहत काम मिलेगा. इसके अलावा श्रम कानून के सुधार पर काम चल रहा है. उन्होंने बताया कि मनरेगा की दिहाड़ी को 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये किया गया है.

आप भी हो सकते हैं इंडियन आर्मी में तीन साल के लिए शामिल, सेना ला रही है ऐसा प्लान

स्पेशल ट्रेनों को छोड़कर अन्य सभी ट्रेनों में 30 जून तक बुक किए गए सभी टिकट रद्द

First published: 14 May 2020, 16:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी