Home » इंडिया » Coronavirus: Government says never talked about train charge from migrant workers
 

मजदूरों से किराया वसूलने की बात निकली झूठी ! सरकार ने कहा- कभी पैसे लेने की बात कही ही नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2020, 19:10 IST

Coronavirus: कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से देश में लॉकडाउन की स्थिति है. इस कारण सरकार अन्य राज्यों में फंंसे मजदूरों को उनके घर भेजने के लिए विशेष ट्रेन चला रही है. इस बीच खबर उड़ी थी कि सरकार मजदूरों से उनके घर जाने के किराया वसूल करेगी. इसे लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा था कि कांग्रेस पार्टी मजदूरों के किराया का पैसा वहन करेगी.

सोनिया गांधी के इस बयान के बाद देश के राजनीतिक हलकों में तूफान मच गया था. लोग सोशल मीडिया पर सरकार पर निशाना साध रहे थे. इस बीच सरकार की तरफ से साफ किया गया है कि मजदूरों से किराया लेने की कोई बात कभी कही ही नहीं गई थी.  स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने मीडिया को यह जानकारी दी.

लव अग्रवाल ने इस खबर पर सफाई देते हुए कहा कि रेलवे 85% और राज्य 15% किराये का वहन करेंगे. लव अग्रवाल ने कहा कि राज्यों के अनुरोध पर सरकार ने विशेष ट्रेनें चलाने की अनुमति दी. वहीं, लागत के मानदंडों के अनुसार 85 प्रतिशत रेलवे और 15 प्रतिशत राज्य शेयर करेंगे. राज्यों से सरकार ने कभी नहीं कहा कि वे मजदूरों से पैसा वसूलें.

गौरतलब है कि सोनिया गांधी की तरफ से सोमवार को यह ऐलान किया गया कि उनकी पार्टी देशभर में फंसे मजदूरों के घर वापस जाने के लिए रेलयात्रा का खर्च उठाएगी. इस पर कांग्रेस ने एक ट्वीट करते हुए लिखा, "भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी."

Lockdown : देशभर से आ रही हैं शराब की दुकानों के बाहर लगी लंबी कतारों की तस्वीरें

Coronavirus : पिछले 24 घंटों में सामने आये 2553 नए मामले और 72 लोगों की मौत

First published: 4 May 2020, 19:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी