Home » इंडिया » coronavirus: if no lockdown, there could have been 8 lakh cases, differences between Ministry of External Affairs and Health on this claim
 

लॉकडाउन न होता तो भारत में आ सकते थे 8 लाख मामले, इस दावे पर विदेश और स्वास्थ्य मंत्रालय में मतभेद

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 April 2020, 9:16 IST

कोरोना वायरस (coronavirus) के बढ़ते मामलों को लेकर भारत के विदेश मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय में आपसी समन्वय की कमी दिख रही है. विदेश मंत्रालय के सचिव वकास स्वरुप ने कहा था कि अगर भारत में 21 दिन का लॉकडाउन नहीं लगाया जाता तो भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 8 लाख 20 हज़ार तक हो गई होती. मंत्रालय ने इसके पीछे भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के एक अध्ययन का हवाला दिया था. दूसरी ओर भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस दावे को ख़ारिज कर दिया है. स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि ICMR ने ऐसा कोई अध्ययन नहीं किया है.

जब इस ICMR रिपोर्ट के बारे में शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्रालय से पूछा गया तो स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा “ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है. कृपया समझें कि यदि हम सामूहिक रूप से और मेहनत करते हैं, तो हम मामलों को संभाल सकते है. यदि हम कोई गलती करते हैं, तो हम उस पुरानी जगह पर वापस आ जाएंगे, जहां हम सफल नहीं कहे जा सकते.” हालांकि उन्होंने इस पर पूछे गए फॉलोअप सवाल का कोई जवाब नहीं दिया.


इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, जो स्वास्थ्य मंत्रालय या विदेश मंत्रालय से नहीं है, ने कहा कि अध्ययन अन्य जियोग्राफिक डेटा के एक्सट्रपलेशन पर आधारित है. इस रिपोर्ट को न केवल MEA ने कोट किया बल्कि इसकी पिछले दिनों हुई एक शीर्ष-स्तरीय बैठक में चर्चा की गई है.

विदेश मंत्रालय ने क्या कहा था

विदेशी पत्रकारों से बात करते हुए विकास स्वरुप ने कहा था कि अगर देश में लॉकडाउन नहीं किया जाता 15 अप्रैल तक देश में संख्या 8 लाख 20 हज़ार से ज्यादा कोरोना वायरस के मामले आ सकते थे. उन्होंने कहा अभी हमारे यहां 6000 तक मामले हैं. उन्होंने कहा ''ज्यादा महत्वपूर्ण ये हमारे यहां ज्यादातर मामले 78 जिलों में स्थानीय संक्रमण के हैं'.

कोरोना वायरस: दुनियाभर में अब तक एक लाख से ज्यादा लोगों की मौत, भारत में मरने वालों की संख्या 200 के पार

First published: 11 April 2020, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी