Home » इंडिया » Coronavirus: Indian Railways in crisis, Tejas Express has been closed again from today
 

Coronavirus: संकट में भारतीय रेलवे, आज से फिर बंद कर दी गई तेजस एक्सप्रेस

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 November 2020, 13:25 IST

Coronavirus: देश में एक बार फिर से कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ने की वजह से भारतीय रेलवे संकट में आ गई है. कोरोना काल में यात्रियों की कमी की वजह से देश की पहली कॉरपोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) को सोमवार से यानि आज से अगले आदेश तक के लिए फिर से बंद करना पड़ा है. कोरोना काल की वजह से तेजस एक्सप्रेस को काफी ज्यादा नुकसान हो रहा था.

आईआरसीटीसी के मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक ने जानकारी दी कि कोरोना महामारी की वजह से इस ट्रेन से यात्रियों का आवागमन बहुत कम हो रहा है. इस कारण ट्रेन को पूरी तरह से अगले आदेश तक के लिए कैंसिल किया जा रहा है. 23 तारीख यानि आज से तेजस ट्रेन का संचालन अभी फिलहाल के लिए बं द कर दिया गया है.

WHO की चेतावनी- अब भी नहीं सुधरे तो दुनिया में आएगी कोरोना वायरस की तीसरी लहर

मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधन ने बताया कि आगे ट्रेन चलेगी या नहीं, इसे लेकर जल्द ही ऐलान किया जाएगा. तेजस ट्रेन देश की पहले प्राइवेट और कॉरपोरेट द्वारा संचालित ट्रेन है. इसे आईआरसीटीसी द्वारा संचालित किया जाता है. यह ट्रेन लखनऊ से दिल्ली के बीच चलती है. इसे पूरी तरह से वीआईपी बनाया गया है. 

कोरोना संक्रमण के बीच तेजस से सफर करने के लिए बहुत कम यात्री बुकिंग करा रहे हैं. इस कारण इसे बंद किया जा रहा है. बता दें कि भारतीय रेलवे वाराणसी से इंदौर के बीच महाकाल एक्सप्रेस का संचालन करने के बारे में सोच रहा है. इसका संचालन भी भारतीय रेलवे ने आईआरसीटीसी के हवाले किया है. 

लखनऊ-दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को IRCTC ने अक्टूबर, 2019 में शुरू किया था. इस साल जनवरी में अहमदाबाद-मुंबई के बीच तेजस एक्सप्रेस का संचालन शुरु हुआ था. कोरोना वायरस शुरू होने के बाद भारतीय रेलवे ने देश की सभी ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया था. इसके बाद 17 अक्टूबर 2020 को तेजस ट्रेन का पुन: संचालन किया गया था. लॉकडाउन की वजह से तेजस का परिचालन 19 मार्च को बंद कर दिया गया था.

गांजा पीने वाले हो जाएं सावधान, अगर घर पर भी रखे पकड़े गए तो हो सकती है 20 साल की सजा

Corona Virus Update: दुनियाभर में कोरोना का कहर जारी, एक दिन आए चार लाख 98 हजार नए मामले

First published: 23 November 2020, 13:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी