Home » इंडिया » Coronavirus Lockdown: Central Government differed annual increment of employees
 

Coronavirus: सरकारी कर्मचारियों को फिर पड़ी लॉकडाउन की मार, सैलरी बढ़ोतरी को लेकर बड़ा झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2020, 17:10 IST

Coronavirus: कोरोना वायरस के कारण देश में हुए लॉकडाउन के कारण केंद्रीय कर्मचारियों को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है. देश में लागू लॉकडाउन की वजह से केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते कुछ दिनों पहले रोक लगा दी गई थी. अब केंद्रीय कर्मचारियों के लिए  एक और बुरी खबर सामने आई है.

रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार ने अब सभी केंद्रीय कर्मचारियों के एनुअल अप्रेजल यानि इंक्रीमेंट को एक साल तक के लिए टाल दिया है. इसका मतलब यह है कि इस साल केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी में बढ़ोतरी के प्रस्ताव पर ब्रेक लग गया है. डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग ने इस बाबत एक ऑर्डर जारी कर कहा है कि केंद्रीय कर्मचारियों के एनुअल परफॉर्मेंस एसेसमेंट रिपार्ट को पूरा करने की मियाद बढ़ा दी गई है.

डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग ने इंक्रीमेंट की मियाद बढ़ाकर अगले साल मार्च 2021 तक कर दिया गया है. यह आदेश 11 जून को जारी किया गया. इस आदेश के अनुसार, देश में मौजूद स्थिति को देखते हुए साल 2019-20 के लिए APAR  को पूरा करने की मियाद दिसंबर 2020 से बढ़कर मार्च 2021 की गई है.

भारत और नेपाल का रिश्ता कोई सामान्य रिश्ता नहीं, कोई तोड़ नहीं सकता : राजनाथ सिंह

रिपोर्ट के अनुसार, पहले ये मियाद 31 दिसंबर 2020 तक रखी गई थी. सरकार ने मार्च में भी अप्रेजल प्रक्रिया को बढ़ाकर दिसंबर कर दिया था. हालांकि अब इसे बढ़ाकर मार्च 2021 कर दिया गया है. केंद्रीय कर्मचारियों को इंक्रीमेंट के लिए अब मार्च 2021 तक का इंतजार करना पड़ेगा.

इससे पहले अप्रैल महीने में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते (DA) की बढ़ोतरी को टाल दिया गया था. आदेश में कहा गया था कि कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट को देखते हुए केंद्र सरकार के कर्मचारियों को 1 जनवरी, 2020 से देय महंगाई भत्ते का भुगतान नहीं करने का फैसला किया है. अभी के 17 फीसदी महंगाई दर को जुलाई 2021 तक लागू माना जाएगा. 

बैंक ने पैसे देने से किया मना, 100 साल की मां को चारपाई पर घसीटकर ले जाना पड़ा बैंक

Coronavirus : CM बोले-दिल्ली में लॉकडाउन नहीं बढ़ेगा, सर्वदलीय बैठक में पार्टियों ने रखी ये मांगें

First published: 15 June 2020, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी