Home » इंडिया » Coronavirus: No plan to increase lockdown in Delhi, these demands raised in all-party meeting
 

Coronavirus : CM बोले-दिल्ली में लॉकडाउन नहीं बढ़ेगा, सर्वदलीय बैठक में पार्टियों ने रखी ये मांगें

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2020, 15:23 IST

गृह मंत्रालय (MHA) में दिल्ली की COVID-19 स्थिति के प्रबंधन को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय बैठक संपन्न हुई. बैठक के बाद बीजेपी दिल्ली अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने जानकारी दी कि बैठक में गृह मंत्री ने कहा कि 20 जून तक दिल्ली सरकार प्रति दिन 18000 टेस्ट करेगी और कंटेनमेंट ज़ोन में घर-घर जाकर ट्रेसिंग और मेपिंग होगी. साथ ही 15 दिन के बाद 500 और रेलवे कोच उपलब्ध हो जाएंगे. जिससे दिल्ली में 37000 बेड दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार और रेलवे कोच को मिलाकर होंगे. उन्होंने कहा ''सर्वदलीय बैठक में, बीजेपी ने मांग की कि परीक्षण पर 50% शुल्क माफ किया जाना चाहिए. इस मांग को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंजूरी दे दी है''.

सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लेने के बाद आप नेता संजय सिंह ने कहा ''राज्य सरकार के अस्पताल में 1900बेड और केंद्र सरकार के अस्पताल में 2000 बेड बढ़ाने का प्रस्ताव आया है. निजी अस्पताल में 1,178 बेड बढ़ेंगे. 500 कोच के जरिए 8,000 बेड, आने वाले दिनों में 500 कोच और लेकर 16,000 बेड बढ़ाने की बात कही गई''. इस बीच दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि कई लोग अनुमान लगा रहे हैं कि दिल्ली में एक बार फिर से लॉकडाउन करने की योजना बनाई जा रही है. ऐसी कोई योजना नहीं है.


दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा ''गृह मंत्रालय ने स्वीकार किया है कि टेस्टिंग का अधिकार सभी को होना चाहिए और सभी देशों में टेस्टिंग और ट्रेसिंग पॉलिसी के माध्यम से ही उपचार संभव है और उन्होंने आश्वासन दिया है कि एक नई ट्रेसिंग पॉलिसी के तहत सभी को टेस्टिंग का अधिकार होगा''.

कांग्रेस नेता ने कहा ''केजरीवाल ने कोरोना वरियर्स के परिजनों के लिए 1 करोड़ रुपये का मुआवजा प्रदान करने की घोषणा की थी. लेकिन वह मुआवजा अभी तक प्रदान नहीं किया गया है. हमने अनुरोध किया है कि मुआवजा तुरंत प्रदान किया जाए ताकि वे अपना मनोबल न खोएं.

दिल्ली का ये रेलवे स्टेशन बन गया आइसोलेशन वार्ड, यूपी, बिहार के लिए चलने वाली सभी ट्रेनें रद्द

Coronavirus update: पिछले 24 घंटों में आये 11,000 मामले, जानिए किस राज्य में कितने मामले

First published: 15 June 2020, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी