Home » इंडिया » CoronaVirus: Official crlaims - not enough tests to prevent community transmission of COVID-19 in India
 

अधिकारी का दावा- भारत में COVID-19 के सामुदायिक संचरण को रोकने के लिए पर्याप्त टेस्ट नहीं हो रहे

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 March 2020, 11:11 IST

आज पूरे देश में जनता कर्फ्यू का ऐलान किया गया है, साथ ही  इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) का कहना है कि वह कोरोना वायरस के कई रोगियों का पर्याप्त परीक्षण कर रहा है. एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने तर्क दिया है कि भारत में कोरोना के सामुदायिक ट्रांसमिशन को रोकने के लिऐ अब तक किये गए टेस्ट पर्याप्त नहीं हैं. इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के तहत एक स्वायत्त निकाय, ट्रांसलेशनल हेल्थ साइंस एंड टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक डॉ. गगनदीप कंग के अनुसार भारत की प्रतिक्रिया प्रणाली कोरोना के सामुदायिक प्रसारण को रोकने में पर्याप्त नहीं है.

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत सामुदायिक प्रसारण के लिए पर्याप्त रोगियों का परीक्षण कर रहा है, कांग ने कहा "नहीं हम पर्याप्त परीक्षण नहीं कर रहे हैं." कांग ने कहा ''शुरुआत में विदेश से आने वाले लोगों का टेस्ट करना सही कदम था लेकिन जब आप इस तरह की कहानियां सुनते हैं कि क्वारेंटाइन किये गए लोग पब्लिक में घूम रहे हैं. इस तरह की सोच को स्थापित करता है कि यह 100 प्रतिशत सही प्रणाली नहीं है''. सामुदायिक संचरण तब होता है जब बीमारी व्यापक होती है और यह पता लगाना मुश्किल होता है कि मरीजों को संक्रमण कैसे हुआ.

 

हालांकि सरकार ने अब निमोनिया सहित गंभीर तीव्र श्वसन संक्रमण (SARI) वाले सभी अस्पताल में भर्ती मरीजों का परीक्षण करने का निर्णय लिया है. यह निर्णय सर्कार ने लगातार बढ़ रहे मामलों के सामने आने के बा लिया. पहले सरकार उन लोगों का परीक्षण कर रही थी, जिन्होंने कोई यात्रा की हो. ICMR अबतक यही दावा करता रहा है कि कोरोना वायरस का भारत में अभी सामुदायिक ट्रांसमिशन नहीं हुआ है. इस हफ्ते की शुरुआत में ICMR ने कहा था कि मार्च में लिए गए 826 नमूनों में से किसी को भी COVID-19 के लिए पॉजिटिव नहीं पाया गया.

पुणे की महिला हो सकती है सामुदायिक ट्रांसमिशन का पहला केस

पुणे में एक महिला को कोरोना पॉजिटिव पाया गया, अधिकारियों का कहना है कि महिला का विदेश यात्रा का कोई इतिहास नहीं रहा है. महिला को 16 मार्च को शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, अधिकारियों ने कहा दिल्ली से भारत सरकार की टीम उसका परीक्षण कर रही है.

coronavirus: महिला ने नहीं की कोई विदेश यात्रा, फिर भी निकली कोरोना वायरस पॉजिटिव

 

First published: 22 March 2020, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी