Home » इंडिया » Coronavirus originate in government laboratory claimes two Chinese scientist
 

कोरोना वायरस है चीन के शैतानी दिमाग की उपज, वैज्ञानिकों का दावा- सरकारी लैब से फैलाया गया

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2020, 13:36 IST

Corona Virus: चीन से फैला जानलेवा कोरोना वायरस पूरी दुनिया में अपना कहर बरपा रहा है. कोरोना वायरस से अब तक 16 सौ से ज्यादा लोग काल की गाल में समा चुके हैं. इसके अलावा दुनियाभर में 70 हजार से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं जिनकी कभी भी मौत हो सकती है. वहीं हर दिन नॉवल कोरोना वायरस (कोविड-19) से संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है.

सवाल उठने लगा है कि आखिरकार इस खतरनाक वायरस की शुरुआत कहां से हुई. बताया जा रहा था कि चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान इस बीमारा का केंद्र है. लेकिन अब चीन के ही दो वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस की शुरुआत देश के सरकारी लैब से हुई है.

 

वैज्ञानिकों का दावा है कि वुहान शहर के फिश मार्केट में 300 गज में फैली एक सरकारी रिसर्च लैब से कोरोना वायरस को फैलाया गया है. चीन की साउथ चाइना यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नॉलजी की रिपोर्ट में दावा किया गया कि हुबेई प्रांत में वुहान सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (WHDC) ने मौत का रोग फैलाने वाली इस बीमारी के वायरस को जन्म दिया.

दो स्कॉलर बोताओ शाओ और ली शाओ ने दावा किया कि WHCDC ने लैब में उन जानवरों को रखा, जिनसे बीमारियां फैलें. दोनों वैज्ञानिकों ने दावा किया कि इनमें 605 चमगादड़ शामिल थे. हो सकता है कि 2019-CoV कोरोना वायरस की शुरुआत यहीं से हुई हो.

रिसर्च पेपर में दावा किया गया कि कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार चमगादड़ों ने एक बार एक रिसर्चर पर हमला कर दिया था. इसके बाद चमगादड़ का खून उसकी स्किन में मिल गया था. इसी रिसर्चर ने एक चमगादड़ द्वारा पेशाब किए जाने के बाद भी खुद को अलग रखा था. 

भारत ने दी कोरोना वायरस को मात, कोरोना पॉजिटिव दो मरीजों को किया ठीक

कोरोना वायरस के कहर के बीच जम्मू-कश्मीर में स्वाइन फ्लू का प्रकोप

First published: 17 February 2020, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी