Home » इंडिया » Coronavirus: Uttar Pradesh's Yogi govt provided most employement to migrant labours in lockdown
 

Coronavirus: योगी सरकार ने प्रवासी मजूदरों को दिया सबसे अधिक रोजगार, देश के सभी राज्यों में अग्रणी उत्तर प्रदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 September 2020, 13:33 IST

Coronavirus: देश में कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के दौरान हजारों प्रवासी मजदूर बड़े शहर को छोड़कर अपने घर वापस आ गए थे. इस दौरान मजदूरों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया था. लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सबसे बड़ी भूमिका निभाई है.

योगी सरकार के प्रयासों को अब देश में काफी सराहा जा रहा है. भारत सरकार ने भी योगी सरकार के इन प्रयासों की काफी सराहना की है. यूपी ने प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने में नंबर एक स्थान हासिल किया है. उत्तर प्रदेश को 6 राज्यों में पहला स्थान मिला है. यूपी में अगर किसी जिले में प्रवासी मजदूरों को सबसे ज्यादा रोजगार मिला है तो वह प्रयागराज है.

बता दें कि लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने की योजना देश के 6 राज्यों में शुरू की गई थी. इन 6 राज्यों के करीब 116 जिलों में यह योजना चल रही थी. इसमें उत्तर प्रदेश ने पहला स्थान हासिल किया है. योजना के तहत उत्तर प्रदेश में स्वच्छ सामुदायिक शौचालयों के निर्माण में प्रवासी मजदूरों को अत्यधिक रोजगार दिया.

Covid-19: मास्क न पहनने के कारण दिल्ली में 25,000 लोगों पर लगाया गया जुर्माना

मजदूरों को इसके जरिये यूपी ने सबसे अधिक रोजगार उपलब्ध करवाया. उत्तर प्रदेश में इस योजना के तहत 31 जिले शामिल थे. इस दौरान प्रयागराज देश में सबसे ज्यादा शौचालय निर्माण करने वाला जिला बना. 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर एक वर्चुअल समारोह का आयोजन किया जाएगा, इसमें उत्तर प्रदेश को पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे.

बता दें कि देश में लॉकडाउन लगने के बाद पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह चौधरी ने जानकारी दी थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीब कल्याण रोजगार का शुभारंभ 20 जून को किया था. प्रवासी श्रमिकों को  125 दिन के इस अभियान में सामुदायिक शौचालय निर्माण समेत विभिन्न 25 कामों के जरिये रोजगार उपलब्ध कराना था.

इस योजना के तहत श्रमिकों को मनरेगा मजदूरी के हिसाब से भुगतान किया गया. यानि एक दिन की 202 रुपये मजदूरी दी गई. पंचायती राज विभाग ने ग्रामीण कल्याण रोजगार अभियान में सर्वाधिक सामुदायिक शौचालय का निर्माण करवाकर अधिक लोगों को रोजगार दिया. 116 जिलों में प्रयागराज पहले स्थान पर, हरदोई दूसरे स्थान पर और फतेहपुर ने तीसरा स्थान प्राप्त किया है.

Coronavirus: जितने वक्त में खत्म होता है फुटबॉल मैच, हो जाती हैं 340 मौतें, दुनियाभर में कोरोना ने ली 1000000 जानें

Farm Bill 2020: सरकार किसानों को उनके अधिकार दे रही है, तो भी ये लोग विरोध पर उतर आए हैं- PM

First published: 29 September 2020, 13:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी