Home » इंडिया » Coronavirus vaccine : Govt wants Serum Institute to lower price of AstraZeneca shot
 

Coronavirus vaccine : सरकार चाहती है सीरम इंस्टीट्यूट कम करे अपने टीके की कीमत: रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2021, 15:41 IST

Coronavirus Vaccine : एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारत सरकार सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of india) के साथ बातचीत कर रही है ताकि एस्ट्राजेनेका के COVID-19 वैक्सीन की कीमत को कम किया जा सके. भारत के ड्रग रेगुलेटर ने Oxford यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दे दी है. जबकि एक अन्य वैक्सीन भारतीय फर्म भारत बायोटेक (Bharat Biotech) द्वारा विकसित की गई है. एक रिपोर्ट के अनुसार करीबी लोगों से मिली जानकारी के अनुसार वरिष्ठ अधिकारियों ने हफ्तों तक सीरम इंस्टीट्यूट के साथ सौदे की शर्तों पर चर्चा की है, जिसमें प्रति शॉट 3 डॉलर से नीचे की कीमतों को नीचे लाने की उम्मीद है.

सीरम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला ने नवंबर में CNBC-TV18 चैनल को बताया था कि इस टीके की भारत में निजी बाजार में प्रति खुराक लगभग 1,000 (13.55 डॉलर) कीमत होगी और सरकार को प्रति खुराक लगभग (250 (डॉलर 3.40) का खर्च आएगा. अधिकारी कीमतों में और भी कमी की संभावना देख रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि 130 करोड़ से अधिक लोगों के देश में टीकाकरण करने के लिए एक बड़ी लागत की आवश्यकता होगी. सूत्रों ने कहा "कोई भी सरकार ऐसा करेगी, क्योंकि हमें लागत कम रखने की जरूरत है."


रिपोर्ट के अनुसार एक अन्य अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया "वैक्सीन की कीमत सीरम के साथ एक मुद्दा है और सरकार को इसे नियंत्रित करने की जरूरत है." शनिवार को सरकार ने कहा कि देश टीकाकरण कार्यक्रम की घोषणा 16 जनवरी से शुरू होगी. इस कार्यक्रम के पहले भाग में 300 मिलियन लोगों को शामिल करने की योजना है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना वायरस की स्थिति और वैक्सीनेशन पर चर्चा करेंगे. पीएम कोविड -19 स्थिति और टीकाकरण अभियान पर चर्चा करेंगे जो 16 जनवरी से शुरू हो रहा है. देश के ड्रग रेगुलेटर ने 3 जनवरी को दो कोविड -19 टीकों को मंजूरी दी थी, जिनमें भारत बायोटेक द्वारा निर्मित कोवाक्सिन और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित कोविशिल्ड शमिल है.

COVID-19 वैक्सीन को सबसे पहले हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को दिया जायेगा, जिनकी अनुमानित संख्या लगभग 3 करोड़ है. इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के और 50 से कम जनसंख्या वाले समूहों को वैक्सीन दी जाएगी. रविवार को भारत का कोरोना वायरस वायरस 2,4,3,3 सक्रिय मामलों सहित 1,04,50,284 तक पहुंच गया, जबकि मृत्यु का आंकड़ा 1,50,999 हो गया है.

कोविड-19 सेस लगा सकती है मोदी सरकार, ज्यादा कमाई करने वालों से वसूला जा सकता है टैक्स

First published: 11 January 2021, 15:30 IST
 
अगली कहानी