Home » इंडिया » Coronavirus was made in the lab of Wuhan in China, there is enough evidence across us: America
 

चीन के वुहान की लैब में ही बना था कोरोना वायरस, हमारे पास इसके पर्याप्त सबूत हैं: अमेरिका

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2020, 12:14 IST

coronavirus: अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि ट्रंप प्रशासन के पास इस बात की पूरी जानकारी है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान की एक प्रयोगशाला में ही तैयार किया गया था. फॉक्स न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में पोम्पियो ने कहा "हम इस बारे में बहुत कुछ नहीं बता सकते हैं, लेकिन हमने इस संबंध में जो खुफिया जानकारी एकत्र की है, उसके बारे में हम काफी आश्वस्त हैं''. पोम्पियो ने कहा कि उन्होंने इस बात के सबूत देखे हैं, जो बताते है कि इसके आने की संभावना वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से है.

उन्होंने कहा हमें इसकी तह तक जाना चाहिए, इसीलिए हम महीनों से पश्चिमी देशों को इस जानकारी तक पहुंचने के लिए कह रहे हैं. कोरोना वायरस के कारण 70,000 से अधिक अमेरिकियों की मृत्यु हो गई है और 12 लाख से अधिक COVID-19 पॉजिटिव केस हैं. पोम्पियो ने आरोप लगाया कि "जो कुछ हुआ है वह नहीं होना था. हम जानते हैं कि यह वायरस वुहान चीन से आया है. हम जानते हैं कि चीनी कम से कम दिसंबर तक इसके बारे में जानते थे.


उन्होंने कहा "ये इस तरह की चीजें हैं जो इस समस्या का कारण बनीं. मैं अब भी कहता हूं कि हमें अभी भी उस जानकारी की जरूरत है जो आवश्यक है. अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा ''अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने देखा कि चीन ने अमेरिकी पत्रकार के साथ क्या किया. हमने देखा कि उन्होंने कुछ डॉक्टरों के साथ क्या किया जिन्होंने सवाल उठाये थे'. हमने जिस तरह का व्यवहार देखा है, इसी तरह से चीनी कम्युनिस्ट पार्टी शासन करती हैं''. पोम्पियो ने कहा चीन में भी हजारों लोगों की जान चली गई लेकिन चीन ने अपने ही लोगों के साथ कैसा व्यवहार किया.

इससे पहले चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की भी कड़ी आलोचना की थी. ट्रंप ने कहा कि वह चीन के लिए पीआर एजेंसी की तरह काम कर रही है. ट्रंप ने कहा WHO को खुद पर शर्म आनी चाहिए. उन्होंने कहा "मुझे लगता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन को खुद के लिए शर्मिंदा होना चाहिए क्योंकि वह चीन के लिए जनसंपर्क एजेंसी (पीआर) की तरह हैं."उन्होंने कहा वह WHO को लगभग एक वर्ष में 500 मिलियन अमेरिकी डॉलर का भुगतान करते हैं जबकि चीन उन्हें सालाना 38 मिलियन अमेरिकी डॉलर का भुगतान करता है.

Coronavirus: लगातार तीसरे दिन आये 3000 से ज्यादा मामले, जानिए अब किस राज्य में कितने केस

Coronavirus Lockdown : एयर इंडिया ने खोली इन देशों के लिए बुकिंग, जानिए क्या हैं शर्तें

First published: 7 May 2020, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी