Home » इंडिया » CORONIL: We only licensed cough medicine, not corona: Uttarakhand Ayurveda, License Department
 

CORONIL: हमने केवल खांसी-जुकाम की दवा का लाइसेंस दिया था, कोरोना का नहीं- आयुर्वेद, लाइसेंस अधिकारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2020, 15:33 IST

बाबा रामदेव ने मंगलवार को कोरोना वायरस के खिलाफ कोरोनिल नामक एक दवा लॉन्च की और कहा कि यह COVID-19 मरीजों पर 100 फीसदी सफल हुई है. शाम होते-होते केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने इसके प्रचार प्रसार और बिक्री पर यह कहकर रोक लगा दी की पहले मंत्रालय इसकी जांच करेगा. अब रामदेव की कोरोनिल पर उत्तराखंड आयुर्वेद लाइसेंस विभाग का बयान आया है.

ANI के अनुसार उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग के लाइसेंस अधिकारी ने कहा ''पतंजलि के आवेदन के अनुसार, हमने उन्हें लाइसेंस जारी किया है. उन्होंने कोरोना वायरस का उल्लेख नहीं किया था और हमने केवल प्रतिरक्षा बूस्टर (immunity booster), खांसी और बुखार के लिए लाइसेंस को मंजूरी दी है. हम उन्हें एक नोटिस जारी करके पूछेंगे कि उन्हें COVID -19 किट बनाने की अनुमति कैसे मिली''. 


इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार योग गुरु और पतंजलि आयुर्वेद के संस्थापक रामदेव ने मंगलवार को कहा कि उनकी कंपनी ने प्रोडक्शन ट्रायल से लेकर क्लीनिकल ट्रायल तक सभी आवश्यक अनुमतियां ली हैं. मंगलवार रात उन्होंने कहा "हमने आज आयुष मंत्रालय को सभी संबंधित जानकारी भेजी है, उन्हें ये जल्द ही मिल जाएंगी."

रामदेव ने कहा ''हमने मीडिया को भी सभी विवरण प्रस्तुत किए हैं. हमने किसी कानून का उल्लंघन नहीं किया है. हम झूठे दावों के आधार पर कोई प्रचार या विज्ञापन नहीं कर रहे हैं. यदि हमने क्लिनिकल ट्रायल किया और पाया कि 100% रोगी ठीक हो गए, तो क्या हम लोगों को यह नहीं बताएंगे? ”

रामदेव ने कहा कि आयुष मंत्रालय को धैर्य रखना चाहिए और अच्छे काम का समर्थन करना चाहिए. उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी को केवल तभी दोषी ठहराया जाना चाहिए जब उसने कंट्रोलल्ड क्लिनिकल ट्रायल के बिना झूठे दावे किए हों." बाबा रामदेव ने कहा अब जब हमारे क्लीनिकल स्टडी ने प्रभावी परिणाम दिखाए हैं, तो सरकार को भी इस पर गर्व करना चाहिए."

बाबा रामदेव को बड़ा झटका, आयुष मंत्रालय ने COVID-19 की दवा कोरोनिल के विज्ञापन पर लगाई रोक

First published: 24 June 2020, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी