Home » इंडिया » Court Invalid a marrige agfter 12 Years as it proved to be a child marriage
 

12 साल बाद इस शादी का हुआ ऐसा अंत, वजह है आंख खोलने वाली

न्यूज एजेंसी | Updated on: 29 November 2018, 12:11 IST

राजस्थान के पीथावास गांव की एक लड़की जिसकी महज छह साल की उम्र में शादी कर दी गई थी, आखिरकार वह एक एनजीओ सारथी ट्रस्ट की सहायता से 12 साल की अपनी शादी को रद्द कराने में सफल हुई. अब 18 साल की हो चुकीं एक मजदूर की बेटी पिंटूदेवी की शादी सारण नगर के एक युवक से हुई थी. उनकी शादी को मंगलवार को जोधपुर के एक पारिवारिक न्यायालय द्वारा रद्द किया गया.

बचपन में ब्याही गई लड़की के ससुराल वाले कथित तौर पर आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त थे. पिंटूदेवी ने जब तलाक मांगा तो उन लोगों ने उनके परिवार को समाज से बहिष्कृत करा देने की धमकी दी. जोधपुर के गैर-सराकरी संगठन सारथी ट्रस्ट की संस्थापक व मैनैजिंग ट्रस्टी कृति भारती की मदद से पिंटूदेवी ने जून में शादी रद्द कराने के लिए याचिका दायर की.

राजस्थान: BJP के बाद कांग्रेस के लुभावने वादे, घोषणा पत्र में किसानों, बेरोजगारों को दिखाए ये सपने

न्यायाधीश पी.के.जैन ने समाज को बाल विवाह की बुराइयों के बारे में संदेश देते हुए शादी को रद्द करने के आदेश दिए. पिंटूदेवी ने आईएएनएस को बताया, "कृति दीदी की मदद से मैं बाल विवाह के चंगुल से आजाद हुई और अब मैं अपने सपने को साकार करने के लिए पढ़ाई करूंगी." भारती ने कहा कि पिंटूदेवी की शादी रद्द होने के बाद उनके पुनर्वास के लिए बेहतर प्रयास किए जा रहे हैं.

First published: 29 November 2018, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी