Home » इंडिया » credit increased of India in the world, india becomes favorite country for treatment for foreigners, patients coming from america and austra
 

दुनिया में बढ़ी भारत की साख, विदेशी मरीजोंं के लिए ईलाज के लिए बना पसंदीदा देश

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2018, 12:15 IST

भारत सरकार के गृहमंत्रालय ने एक आंकड़ा जारी किया है इसके अनुसार, चिकित्सा के क्षेत्र में भारत की ख्याति दुनिया में बढ़ती जा रही है. गृहमंत्रालय के अनुसार, विदेशी नागरिकों के लिए ईलाज कराने के लिए भारत पसंदीदा देश बनाता जा रहा है. वर्ष 2016 में 1,678 पाकिस्तानियों और 296 अमरीकियों समेत 2 लाख से अधिक विदेशियों ने भारत आकर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाया.

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में दुनिया भर के 54 देशों के 2,01,099 नागरिकों को चिकित्सा वीजा जारी किए गए. आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में सबसे ज्यादा चिकित्सा वीजा बांग्लादेशी नागरिकों (99,799) को जारी किए गए. इसके बाद अफगानिस्तान (33,955), इराक (13,465), ओमान (12,227), उज्बेकिस्तान (4,420), नाइजीरिया (4,359) समेत अन्य स्थान हैं.

 

इसी के साथ 1,678 पाकिस्तानियों, 296 अमरीकियों, ब्रिटेन के 370 नागरिकों, रूस के 96 नागरिकों और 75 ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को भी चिकित्सा वीजा जारी किए गए.

गृह मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया कि भारत ने 2014 में अपनी वीजा नीति को उदार बनाया है. एक उद्योग मंडल द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि भारत के प्रमुख चिकित्सा स्थल के रूप में उभरने का प्राथमिक कारण विकसित देशों की तुलना में यहां काफी कम कीमत पर उचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होना है.

सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश का चिकित्सा पर्यटन तीन अरब डॉलर का होने का अनुमान है, जो 2020 तक बढ़कर 7-8 अरब डॉलर का हो सकता है. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इनमें से कई वीजा तो ई-वीजा प्रणाली के तहत जारी किए गए. इसमें भारत पहुंचने से पहले यात्री ऑनलाइन यात्रा दस्तावेज प्राप्त कर लेते हैं. यह योजना 27 नवंबर 2014 को शुरू की गई थी.

First published: 12 February 2018, 12:15 IST
 
अगली कहानी