Home » इंडिया » Cryptocurrency of 1000 crore lock in account as man died with secret password
 

1000 करोड़ की करेंसी का पासवर्ड लेकर हुई शख्स की मौत, 3 लाख से ज्यादा लोगों के फंसे पैसे

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2019, 13:09 IST

कनाडा के एक व्यक्ति की मौत के बाद 1000 करोड़ की क्रिप्टोकरंसी उसके अकाउंट में ही लॉक हो गयी है. कनाडा के रहने वाले 30 साल के गेराल्ड के डिजिटल अकाउंट में करीब 1000 करोड़ की क्रिप्टोकरेंसी थी जो कि एक पासवर्ड से सिक्योर थी. अब गेराल्ड की मौत के बाद ये साड़ी रकम पासवर्ड के कारण फंस गई है. बताया जा रहा है कि पासवर्ड के बारे में गेराल्ड की पत्नी को भी जानकारी नहीं थी. लॉक हुए इन 1000 करोड़ की क्रिप्टोकरेंसी को निकालने के लिए बड़े-बड़े एक्सपर्ट लगे  हुए हैं. लेकिन गेराल्ड का लैपटॉप भी इन्क्रिप्टेड है जिसके कारण ये एक्सपर्ट भी कोई रास्ता नहीं निकाल पा रहे हैं.

जानकारी के मुताबिक गेराल्ड ने क्रिप्टोकरंसी की ट्रेडिंग के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म की शुरुआत की थी. रॉयटर्स के मुताबिक क्वाड्रिगा नाम के इस डिजिटल प्लेटफॉर्म के लिए गेराल्ड ने जो डिजिटल अकाउंट बनाया था उसमें तकरीबन 138 मिलियन डॉलर की राशि थी. भारतीय रुपये के हिसाब से देखा जाए तो ये करीब 1000 करोड़ रुपये की क्रिप्टोकरंसी है. बता दें, गेराल्ड बीते दिनों इसी काम के सिलसिले में भारत आए थे.

आंतों की बीमारी से ग्रसित गेराल्ड की भारत में ही मौत गयी. गेराल्ड की मौत के साथ इस अकाउंट भी एक रहस्य बन गया है. गरल की पत्नी जेनिफर ने एक एफिडेविड में यह जानकारी दी है कि उनके पति की कंपनी क्वाड्रिगा में कुल 363000 रजिस्टर्ड यूजर हैं. यानि कि एक पासवर्ड के कारण अब अब तीन लाख से ज्यादा लोगों के पैसे फंस गए है.

लोकसभा चुनाव के पहले मोदी का मास्टरस्ट्रोक, सामने आएंगे स्विस बैंक में काला धन रखने वालों के नाम

पासवर्ड के लिए कंपनी ने कोर्ट में की अपील
इस मामले में गेराल्ड की कम्पनी क्वाड्रिगासीएक्स ने से नोवा स्कॉटिया सुप्रीम कोर्ट से अपील की कि पासवर्ड हल करने की उन्हें अनुमति दी जाए. जिससे वह अचानक से कंपनी पर आई आर्थिक समस्या को हल कर सकें. कंपनी ने अपने बयान में कहा, ''पिछले कुछ हफ्तों से हमने अपनी आर्थिक समस्या को हल करने के लिए कई प्रयास किए हैं. हमने क्रिप्टोकरंसी अकाउंट का पता लगाने और उसे सुरक्षित करने की कोशिश की है. हमें अपने कस्टमर्स को उनके डिपॉजिट के हिसाब से पैसा देना है लेकिन हम ऐसा करने में असमर्थ हैं क्योंकि हम उस अकाउंट को ही ऐक्सेस नहीं कर पा रहे हैं.''

 

First published: 6 February 2019, 13:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी