Home » इंडिया » CVC said corrupt bureaucrat detect to aadhaar, new strategy created
 

अब आधार से पकडे जायेंगे भ्रष्ट नौकरशाह, सीवीसी ने बनाई ये रणनीति

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2018, 16:59 IST

केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने रविवार को कहा कि जिस तरह आधार कई वित्तीय लेनदेन और प्रॉपर्टी डील्स में अनिवार्य बन रहा है, उसी तरह इसका इस्तेमाल भ्रष्ट नौकरशाहों की अवैध सम्पति पर पर नज़र रखने में भी किया जा सकता है.

एंटी-करप्शन टीम इस बात को लेकर आशावादी है कि किसी व्यक्ति के स्थायी खाता संख्या( पैन) और आधार कार्ड के जरिये यह जानने में मदद मिल सकती है कि कार्डधारक द्वारा किया गया वित्तीय सौदा उसकी आमदनी के दायरे में है या नहीं.

केंद्रीय सतर्कता आयुक्त केवी चौधरी ने एक इंटरव्यू में कहा ‘ हमने अवधारणा पत्र तैयार किया है. इसके पीछे विचार किसी तरह की परिचालन वाली प्रक्रिया बनाने या संभव हो सके तो सॉफ्टवेयर तैयार करने का है. इससे यदि हम किसी क, ख या ग व्यक्ति की जांच का फैसला करते हैं तो हम अन्य विभागों के साथ बिना किसी अड़चन के संपर्क कर सकें और आधार का इस्तेमाल कर आवश्यक जानकारी जुटा सकें.’

चौधरी ने कहा कि आधार को कुछ वित्तीय लेनदेन के लिए अनिवार्य कर दिया गया है, ऐसे में सीवीसी कुछ केंद्रीयकृत एजेंसियों से आंकड़े जुटाने की स्थिति में है. इन सूचनाओं के जरिये यह पता लगाया जा सकता है कि संबंधित व्यक्ति ने कोई लेनदेन किस उद्देश्य से किया है. 

ये भी पढ़ें : मोदी जी... 'सोशल मीडिया और यू-ट्यूब पर वक्त काट रहे हैं ग्रेजुएट युवा'

First published: 1 April 2018, 16:57 IST
 
अगली कहानी