Home » इंडिया » CVC says CBI director Alok Verma failed to furnish the records before commission
 

CBI विवाद: पहली बार सामने आई CVC, कहा- दोनों अधिकारियों ने माहौल को दूषित किया

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 October 2018, 17:07 IST

CBI के दो सीनियर अधिकारियों को छुट्टी पर भेजनेे के मामले में सीवीसी ने पहली बार अपना बयान जारी किया है. आयोग ने कहा कि दोनों शीर्ष अधिकारियों की ओर से एक-दूसरे पर लगाए गए भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों ने सीबीआई के माहौल को दूषित किया. 

सीवीसी ने बयान जारी कर कहा कि अधिकारियों के आपसी झगड़े ने संस्थान की विश्वसनीयता एवं प्रतिष्ठा को धक्का पहुंचाने का काम किया. वहीं सरकार ने कहा कि कई बार रिमाइंडर भेजने के बाद भी सीवीसी को दस्तावेज नहीं सौंपे गए.

पढ़ें- 'चौकीदार' ने CBI डायरेक्टर को हटाया क्योंकि सीबीआई राफेल पर सवाल उठा रही थी- राहुल गांधी

बता दें कि देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के भीतर बढ़ते टकराव को देखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार को दखल देना पड़ा. कैबिनेट की अपॉइंटमेंट कमेटी ने रात के तकरीबन साढ़े 11 एक आर्डर जारी किया, जिसमे आदेश दिया गया कि सीबीआई के डायरेक्टर अलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया जाए, इसके साथ ही विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना को भी छुट्टी पर भेज दिया गया.

पढ़ें- 'CBI की साख बनी रहे इसलिए मोदी सरकार ने दोनों अफसरों को भेजा छुट्टी पर'

इन दोनों सीबीआई के अफसरों के ऑफिस सील बंद कर दिए गए हैं और दोनों से सारे अधिकार छीन लिए गए हैं. केंद्र सरकार ने एम नागेश्वर राव को फ़िलहाल अंतरिम डायरेक्टर बनाया गया है. फिलहाल इस पर अब केंद्र सरकार घिरती नजर आ रही है. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी चीफ अरविंंद केजरीवाल ने सरकार के फैसले पर सवाल उठाया है.
First published: 24 October 2018, 17:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी