Home » इंडिया » Cyclone Amphan Update: Today Amphan hits Kolkata Odisha coastal areas and it may heavy rains
 

अम्फान से ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरु, यहां मचा सकता है तबाही

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 May 2020, 14:10 IST

Cyclone Amphan Update: बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) से उठा चक्रवाती तूफान (Cyclone Storm) बेहद खतरनाक रूप लेता जा रहा है. इसके आज शाम तक पश्चिम बंगाल (West Bengal) के दीघा तट से टकराने की आशंका है. इस दौरान इलाके में 180 किलोमीटर प्रति घंटे की हवाएं चलेंगी और तेज बारिश होगी. खतरे की आशंका के चलते इस इलाके से करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है. भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने पश्चिम बंगाल के लिए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया है. मौसम विभाग (meteorological department) के मुताबिक चक्रवाती तूफान अम्फान (Cyclone Amphan) के चलते कोलकाता, हुगली, हावड़ा, दक्षिणी और उत्तर 24 परगना और मिदनापुर जिलों में भारी नुकसान होने की संभावना है.

मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि तूफान के ओडिशा के तट से टकराने की वजह से राज्य के 12 जिलों में भारी बारिश हो सकती है. साथ ही छह जिलों में तूफान की वजह से भारी तबाही भी हो सकती है. वहीं, देश के दूसरे सबसे छोटे राज्य सिक्किम पर भी चक्रवात का प्रभाव पड़ने की संभावना है. बताया जा रहा है कि यहां भी कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है. साथ ही राज्य के तराई इलाकों में हल्की बारिश होने की संभावना है.


कोरोना संकट के बीच देश पर मंडराया चक्रवाती तूफान का खतरा, 12 घंटे में यहां आ सकती है भयानक तबाही

मौसम विभाग का कहना है कि असम और मेघालय के कई हिस्सों में 21 मई तक भारी बारिश हो सकती है. दूसरी तरफ दक्षिण भारत के दो राज्यों केरल और कर्नाटक के तटीय इलाकों में तेज हवाओं के साथ तीन दिन तक भारी बारिश का अनुमान है. वहीं, बिहार में तेज हवा के साथ बारिश होने की संभावना बनी हुई है. आईएमडी के मुताबिक, 15 मई को विशाखापट्टनम से 900 किमी दूर दक्षिण-पूर्व की ओर दक्षिणी बंगाल की खाड़ी में कम दबाव और फिर गहरे निम्न दबाव का क्षेत्र बनना शुरू हुआ था.

बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफान 'अम्फान' हुआ खतरनाक, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

कोरोना के बाद पृथ्वी पर भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाएं मचा सकती हैं तबाही

17 मई को जब यह दीघा से 1200 किमी दूर था, तब यह चक्रवात में तब्दील हो गया और उत्तर-उत्तर पश्चिम की दिशा में 8 किमी/घंटा की गति से बढ़ने लगा. फिर 18 मई की शाम यह सुपर साइक्लोन में बदल गया. मौसम विभाग के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि सुपर साइक्लोन के कारण केरल में मानसून के आने में देरी होने की संभावना है. उन्होंने बताया कि केरल में अब एक जून के बजाय मानसून पांच जून को आने की संभावना है. इस तरह देश के बाकी हिस्सों में भी मानसून चार दिनों की देरी से पहुंचेगा. इस बीच, तूफान के चलते ओडिशा, केरल, असम समेत 10 राज्यों में बारिश हो रही है.

Cyclone Amphan: चक्रवाती तूफान अम्फान के डर से 11 लाख लोगों ने छोड़ा घर, 6 घंटे में आएगी तबाही

सुपर चक्रवात में तब्दील हो रहा है चक्रवाती तूफान 'अम्फान', मचा सकता है तबाही

मौसम विभाग के मुताबिक, सुपर साइक्लोन का असर उत्तर और मध्य भारत नहीं पड़ेगा. हालांकि, जब यह सागर द्वीप के आसपास जमीन से टकराएगा तो हवाओं की रफ्तार 165 किमी तक रहेगी. जिसके चलते मध्यप्रदेश के रीवा, शहडोल, सागर, जबलपुर में हल्की बारिश होने की संभावना है. अम्फान के खतरे को देखते हुए बंगाल और ओडिशा में NDRF की 41 टीमें तैनात की गईं. वहीं एनडीआरएफ प्रमुख एसएन प्रधान ने कहा कि उनकी टीम की महाचक्रवात पर पूरी तरह से नजर है. ओडिशा और पश्चिम बंगाल में बचाव और राहत प्रयासों को बढ़ाने के लिए जेमिनी बोट और चिकित्सा टीमों के साथ 20 बचाव दल भी तैयार हैं.

आज तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान 'अम्फान', ओडिशा के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरु

First published: 20 May 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी