Home » इंडिया » Cyclone Fani 16 people dead due to thunderstorm in Odisha rescue operation underway
 

चक्रवाती तूफान फानी ने ली अबतक 16 लोगों की जान, राहत बचाव कार्य जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2019, 11:11 IST

ओडिशा में आए चक्रवाती तूफान फानी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है. राज्य सरकार लगातार राहत बचाव कार्य में लगी हुई है. राहत बचाव कर्मी 10 हजार गांवों और 52 शहरी क्षेत्रों के लोगों को राहत देने और उनके पुनर्वास के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं. बता दें कि फानी तूफाने से करीब एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं. वहीं मरने वाले 16 लोगों में से चार मयूरभंज, पुरी, भुवनेश्वर और जाजपुर में तीन-तीन, क्योंझर, नयागढ़ और केंद्र पाड़ा में एक -एक व्यक्ति की मौत हुई है.

बता दें कि शक्तिशाली चक्रवाती तूफान फानी शुक्रवार को पुरी के तट से टकराया था. बताया जा रहा है कि यह चक्रवाती तूफान ग्रीष्म कालीन चक्रवातों में सबसे ‘दुर्लभ से दुर्लभतम’ श्रेणी का है जो बीते 43 सालों में पहली बार ओडिशा पहुंचा. जो पिछले 150 सालों में आए तीन सबसे ताकतवर तूफानों में से एक है.

चक्रवाती तूफान ने ओडिशा के अलवा पश्चिम बंगाल में भी कहर बरपाया. तूफान की चपेट में आने से कई गांवों और शहरों में घरों की छत उड़ गईं. बता दें कि फानी से पहले साल 1999 में सुपर साइक्लोन आया था. जिसमें करीब 10 हजार लोगों की मौत हो गई थी.

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने हाल ही में प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया. इससे पहले पटनायक ने अपने एक बयान में कहा कि नागरिक समाज संगठनों, एनडीआरएफ, ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल के जवान और एक लाख अधिकारियों के साथ करीब 2000 आपातकालीन कर्मचारी सामान्य जनजीवन को फिर से बहाल करने की कोशिश कर रहे हैं.

चक्रवाती तूफान फानी के बाद कोलकाता एयरपोर्ट से एक बार फिर से उड़ान शुरु हो गई हैं. इसके अलावा सियालदह और हावड़ा स्टेशनों पर ट्रेन सेवाएं भी सामान्य हो गई हैं. लोगों को राहत देने के लिए भारतीय वायु सेना ने शनिवार को हिंडन एयर बेस से भुवनेश्वर के लिए तीन सी-130 जे सुपर हरक्युलिस विमानों को भेजा है. विमान में चक्रवात फानी से प्रभावित इलाकों में दवाइयों सहित करीब 45 टन राहत सामग्री भेजी गई है.

First published: 5 May 2019, 11:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी