Home » इंडिया » Cyrus mistry alleged Tata group involved in Agustawestland scam
 

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में मिस्त्री ने टाटा समूह को घसीटा

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 December 2016, 9:55 IST
(एजेंसी)

टाटा समूह से बर्खास्त किये गये पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री ने टाटा समूह की मुश्किलों को यह कहते हुए और बढ़ा दिया है कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले में टाटा समूह भी शामिल है.

मिस्त्री ने टाटा समूह के निदेशक विजय सिंह पर अगस्ता घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया है. मिस्त्री ने कहा है कि पूर्व में रक्षा सचिव रहे विजय सिंह ने 3600 करोड़ रुपये के वीवीआईपी हेलीकॉप्टर डील को कराने में अहम भूमिका निभाई थी.

इस संबंध में मिस्त्री के दफ्तर से जारी एक बयान में कहा गया है कि रक्षा सचिव के तौर पर 2010 में वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा अगस्ता वेस्टलैंड को दिलाने में विजय सिंह ने ही प्रमुख भूमिका निभाई थी.

1 जनवरी 2014 को भारत ने फिनमेकैनिका की सब्सीडियरी कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड के साथ हेलीकॉप्टर डील को रद्द कर दिया था. इसमें सौदे से जुड़े कांट्रेक्ट का उल्लंघन और 423 करोड़ रुपये की रिश्वतखोरी का आरोप लगाया गया था.

बताया जा रहा है कि विजय सिंह टाटा सन्स के नॉमिनेशन और रेम्यूनरेशन कमेटी के सदस्य थे और उन्होंने 28 जून 2016 को उन्होंने मिस्त्री के कार्यों की जबरदस्त तारीफ की थी. वहीं पूर्व रक्षा सचिव विजय सिंह ने अगस्ता डील मामले में मिस्त्री के सभी आरोपों को सिरे से खारिज किया है.

विजय सिंह ने कहा कि वह 2007 से 2009 के बीच रक्षा सचिव थे जबकि सीबीआई जिस वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले की जांच कर रही है वह 2004-05 से जुड़ी है. सिंह ने कहा कि रक्षा मंत्रालय से मेरे रिटायर होने के बाद कैबिनेट ने वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे को मंजूरी दी थी.

First published: 12 December 2016, 9:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी