Home » इंडिया » Dadri lynching: FIR registered against Mohammad Akhlaq family
 

दादरी कांड: कोर्ट के आदेश पर अखलाक के परिवार के खिलाफ गोहत्या का मामला दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2016, 13:37 IST
(कैच न्यूज)

दादरी कांड में अखलाक के परिवार पर गोहत्या का केस दर्ज कर लिया गया है. मथुरा की फोरेंसिक रिपोर्ट में बीफ की पुष्टि होने के बाद जारचा थाने में शुक्रवार को अखलाक के परिवार के लोगों के खिलाफ गोहत्या मामले में आईपीसी की धारा 3/8 और 3/11 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है.

अदालत के आदेश पर जारचा कोतवाली पुलिस ने अखलाक के परिवार के सदस्यों- मां असगरी, पत्नी इकरामन, बेटे दानिश, बेटी साहिस्ता, भाभी सोना, छोटे भाई जान मोहम्मद के खिलाफ गोहत्या निवारण अधिनियम और पशुक्रूरता निवारण अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

बिसहड़ा के ग्रामीण सूरजपाल ने मथुरा की फोरेंसिक रिपोर्ट में बीफ की पुष्टि होने के बाद कोर्ट में 156(3) सीआरपीसी के तहत अखलाक के परिवार पर गोहत्या का केस दर्ज कराने के लिए याचिका दायर की थी. एक महीने तक चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने अखलाक परिवार के खिलाफ गोहत्या का मामला दर्ज करने का आदेश दिया था.

गौरतलब है 28 सितंबर 2015 की इस घटना में नोएडा के दादरी में उन्मादी भीड़ ने मोहम्मद अखलाक के घर में घुसकर उसकी हत्या कर दी थी जबकि उसके बेटे को गंभीर रूप से घायल कर दिया था. भीड़ का गुस्सा इस अफवाह पर था कि मोहम्मद अखलाक के घर में गोमांस पकाया गया है.

घटनाक्रम

28 सितंबर 2015

दादरी के बिसहड़ा गांव में मोहम्मद अखलाक को घर में बीफ रखने के आरोप में पीट-पीट कर मार डाला गया.

अक्टूबर, 2015

यूपी सरकार ने अखलाक के घर मिले मीट के सैम्पल की जांच कराई थी. फोरेंसिक लैब की रिपोर्ट में तब इसे बकरी या बकरे का मांस बताया गया.

दिसंबर 2015

पुलिस ने चार्जशीट दाखिल की, जिसमें एक नाबालिग समेत 15 लोगों को नामजद किया गया.

31 मई 20016

मथुरा की फोरेंसिक लैब रिपोर्ट ने पुष्टि की थी कि अखलाक के फ्रिज से लिया गया मीट का सैंपल गाय या बछड़े का ही था.

9 जून 2016

मथुरा की फोरेंसिक लैब की रिपोर्ट के आधार पर बिसाहड़ा गांव के  स्थानीय लोगों ने अदालत में जाकर मोहम्मद अखलाक के परिवार के सदस्यों के खिलाफ कथित गौकशी के मामले में प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की.

14 जुलाई 2016

ग्रेटर नोएडा की जिला अदालत में दायर याचिका के आधार पर कोर्ट ने अखलाक के परिवार- भाई जान मोहम्मद, मां-असगरी, पत्नी- इकरामन, बेटे- दानिश बेटी- शाईस्ता और रिश्‍तेदार- सोनी के खिलाफ गोहत्‍या का केस दर्ज करने का आदेश दिया था.

16 सितंबर 2016

जारचा थाने में अखलाक के परिवार के लोगों के खिलाफ गोहत्या मामले में आईपीसी की धारा 3/8 और 3/11 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई.

First published: 17 September 2016, 13:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी