Home » इंडिया » Dadri tense ahead of mahapanchayat
 

दादरी बीफ विवाद: महापंचायत से तनाव की स्थिति

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2016, 19:47 IST
(फाइल फोटो)

दिल्ली से सटे दादरी के बिसाहड़ा गांव में एक बार फिर तनाव की स्थिति बन रही है. सोमवार को गांव में धारा 144 लगे होने के बावजूद बीजेपी और शिवसेना से जुड़े नेताओं के एक समूह ने महापंचायत आयोजित की. महापंचायत में मोहम्मद अखलाक के परिवार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई.

बीजेपी के स्थानीय नेता संजय राणा के आह्वान पर सोमवार शाम महापंचायत हुई. संजय राणा का बेटा विशाल राणा अखलाक के हत्या के आरोपियों में से एक है.

मंगलवार को मथुरा की फॉरेंसिक लैब ने अपनी रिपोर्ट में पुष्टि की थी कि मोहम्मद अखलाक के फ्रिज से लिए गए मीट का सैंपल 'गाय या उसके बछड़े' का था.

फॉरेंसिक रिपोर्ट: दादरी में अखलाक के घर मटन नहीं बीफ था

इस रिपोर्ट के आने के बाद बिसाहड़ा गांव के कुछ लोगों ने अखलाक के परिवार के खिलाफ गोहत्या का मामला दर्ज किए जाने की मांग की है. कुछ ग्रामीणों और हिंदू संगठनों ने अखलाक की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए 17 लोगों को रिहा करने की मांग की है.

हालांकि,  सैंपल की फॉरेंसिक रिपोर्ट पर नोएडा पुलिस ने ही सवाल खड़े किए हैं. गौतमबुद्धनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक किरन एस का कहना है, 'मथुरा लैब की जिस नई रिपोर्ट की बात की जा रही है, उस रिपोर्ट में जांच का सैंपल मीट अखलाक के घर के पास एक ट्रांसफार्मर के नजदीक मिला था.'

एसएसपी ने कहा, 'मोहम्मद अखलाक का शव भी वहीं पाया गया था. सैंपल के गोमांस होने से जांच पर कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि ये हत्या का मामला है.'

नोएडा पुलिस: गोमांस का सैंपल अखलाक के घर का नहीं

गौरतलब है कि दादरी के बिसाहड़ा गांव में पिछले साल 28 सितंबर की रात मोहम्मद अखलाक के घर में गाय का मांस होने की अफवाह पर भीड़ ने उनके घर पर हमला बोल दिया था. इस हमले में अखलाक की मौत हो गई थी और उनका बेटा दानिश गंभीर रुप से घायल हो गया था. भीड़ का गुस्सा इस अफवाह पर था कि मोहम्मद अखलाक के घर में गोमांस पकाया गया है.

First published: 6 June 2016, 19:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी