Home » इंडिया » Dalit, Patel leaders held as PM arrives to celebrate birthday
 

जिग्नेश मेवानी: मोदी की गुजरात यात्रा के दौरान दलित और पटेल नेताओं को हिरासत में क्यों लिया गया?

रथिन दास | Updated on: 18 September 2016, 7:29 IST
QUICK PILL
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गुजरात यात्रा शुरू होने के साथ ही दलित आंदोलन के नेता जिग्नेश मेवानी और पाटीदार आंदोलन के कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है.
  • नरेंद्र मोदी अपने 67वें जन्मदिन के मौके पर दो दिनों की यात्रा पर गुजरात पहुंचे हैं. बीजेपी उनके जन्मदिन को सेवा दिवस के तौर पर मना रही है.
  • प्रधानमंत्री आज गुजरात में दलितों के कार्यक्रम को भी संबोधित करेंगे. इसके साथ ही दिव्यांगों को बड़ी संख्या में स्पेशल किट वितरित किए जाएंगे.

कथित गौ रक्षकों द्वारा एक मुस्लिम युवक की हत्या किए जाने और दलित आंदोलन का चेहरा बन चुके जिग्नेश मेवानी को गिरफ्तार किए जाने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिनों की गुजरात यात्रा शुरू हो गई है. 

मोदी अपने 67वें जन्मदिन के मौके पर गुजरात गए हुए हैं. उनकी इस यात्रा से पहले पटेल आंदोलन के कई नेताओं को भी हिरासत में लिया गया है.

29 वर्षीय मुस्लिम युवक मोहम्मद अयूब उन तीन लोगों में शामिल थे जिसे बकरीद के दिन स्वयंभू गौ रक्षकों ने पकड़ लिया और फिर उनकी बुरी तरह पिटाई कर डाली. पिटाई की वजह से मोहम्मद अयूब की जान चली गई.

वहीं शुक्रवार को दिल्ली में दलितों की एक रैली को संबोधित कर अहमदाबाद लौटे जिग्नेश मेवानी को गिरफ्तार कर लिया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसके आधे घंटे बाद अपना जन्मदिन मनाने के लिए अहमदाबाद पहुंचे. बीजेपी उनके जन्म दिवस को सेवा दिवस के तौर पर मना रही है. 

मेवानी के अलावा रेशमा पटेल के नेतृत्व वाले पाटीदार अमानत आंदोलन समिति के करीब 400 पटेल आंदोलनकारियों को भी हिरासत में लिया गया है. 

जब डिटेक्शन ऑफ क्राइम ब्रांच में मेवानी से पूछताछ की जा रही थी तब करीब 100 से अधिक दलित कार्यकर्ता वहां जमा हो गए और उन्होंने मेवानी की रिहाई के समर्थन में नारेबाजी शुरू कर दी. 

दरअसल पिछले हफ्ते सूरत में बीजेपी के प्रेसिडेंट अमित शाह की रैली में जमकर हंगामा हुआ था और इससे पार्टी को शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी. सूरत की रैली में हुई छीछालेदर के बाद संभावित हंगामे को देखते हुए नरेंद्र मोदी के गुजरात पहुंचने से पहले इन नेताओं को हिरासत में लिया गया है.

सूरत की रैली में पटेल नेेताओं ने मंच की तरफ कुर्सियां फेंकी थी और बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ भी किया था. इसके बाद ऐसी किसी संभावना से बचने के लिए मंच को तार से घेर दिया गया. सूरत की घटना के बाद मुख्यमंत्री विजय रूपानी की रैली में सभी कुर्सियों को एक दूसरे बांध दिया गया था. 

मोदी आज 67 साल के हो गए. पार्टी ने उनके सम्मान में 67 अलग अलग कार्यक्रम आयोजित किए हैं

लगातार गलत खबरों की वजह से सुर्खियों में रहने के बावजूद बीजेपी ने नरेंद्र मोदी का जन्मदिन बड़े पैमाने पर सेलिब्रेट किया.

मोदी 67 साल के हो गए. पार्टी ने उनके सम्मान में 67 अलग अलग कार्यक्रम गुजरात भर में आयोजित किए. पार्टी ने लीमखेड़ा में मोदी की 67 फुट लंबा कट आउट लगाया था, जहां वह आदिवासियों की सभा को संबोधित करने वाले थे.

वहीं कुछ बीजेपी सदस्य 67 घंटों तक महामृत्युंजय का जाप कर रहे हैं जबकि कुछ अन्य कार्यकर्ता 67 घंटों तक हनुमान चालीसा का जाप कर रहे हैं. बीजेपी नवसारी में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की मदद से तीन विश्व रिकॉर्ड बनाने की तैयारी में भी है. 

पार्टी 11,223 दिव्यांगों को 17,000 स्पेशल किट बांटेगी और यह फिर व्हीलचेयर पर बैठे लोग एक लोगो का निर्माण करेंगे. इस पहले यह रिकॉर्ड अमेरिका में बना था जब 346 व्हीलचेयर पर बैठे लोगों ने 2010 में लोगो बनाया था. नवसारी में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में 1,000 व्हीलचेयर पर बैठे लोग यह लोगो बनाएंगे.

दूसरा रिकॉर्ड प्रधानमंत्री की तरफ से 1,000 बहरे लोगों को स्पेशल किट देकर बनाया गया. किसी एक जगह पर एक साथ इतनी बड़ी संख्या में इतने लोगों को पहले कभी एक साथ मदद नहीं दी गई. तीसरा रिकॉर्ड एक जगह पर 1,500 ऑयल लैंप्स को प्रज्वलित करना है. यह रिकॉर्ड भी गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल होगा.

जाहिर है इतने सारे कार्यक्रमों के बीच जिस तरह की नाराजगी प्रदेश के कुछ समुदायों में मौजूदा सरकार को लेकर है, उसमें खलल पड़ने की पूरी संभावना थी. इसलिए सरकार ने एहतियातन पटेल और दलित आंदोलन के नेताओं को हिरासत में ले लिया है.

First published: 18 September 2016, 7:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी