Home » इंडिया » Dassault Aviation says partnership with Reliance Group for Rafale was its own choice
 

फ्रांसीसी कंपनी डासॉल्ट ने किया भारत सरकार का समर्थन, कहा- Reliance हमारी खुद की पसंद थी

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2018, 11:11 IST

 

फ्रांसीसी विमान निर्माता डासॉल्ट एविएशन ने कहा है कि फाल्कन और राफले विमान के कुछ हिस्सों के लिए अनिल अंबानी के रिलायंस समूह के साथ साझेदारी उसकी की पसंद थी. दासॉल्ट ने अपने बयान में भारत सरकार की स्थिति का समर्थन है कि दोनों समूहों के बीच संयुक्त उद्यम में सरकार की कोई भूमिका नहीं थी.

36 राफेल विमानों की खरीद पर विवाद ने तब नया मोड़ लिया था जब फ्रांसीसी जर्नल के साथ शुक्रवार को पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने खुलासा किया था कि डसेलॉल्ट एविएशन से सौदा में ऑफसेट क्लॉज के लिए अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप के साथी के अलावा कोई विकल्प नहीं दिया गया था.

 

डेसॉल्ट रिलायंस एयरोस्पेस लिमिटेड (डीआरएएल) के पास 36 राफेल विमानों के लिए करीब 30,000 करोड़ रुपये का ऑफसेट अनुबंध है. ऑफसेट पॉलिसी के तहत, भारतीय सरकार या राज्य संचालित कंपनियों को माल बेचने वाली विदेशी कंपनियां स्थानीय स्तर पर आपूर्ति का स्रोत हिस्सा बनती हैं.

इससे पहले राफेल डील पर पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के खुलासे के बाद फ्रांसीसी सरकार ने शनिवार को एक बयान में कहा था कि वह भारतीय औद्योगिक पार्टनर को पसंद करने में शामिल नहीं थी, वह फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा चुना जाना था. इससे पहले एक फ्रेंच वेबसाइट को पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने बताया था कि भारत सरकार ने राफेल सौदे में ऑफसेट पार्टनर के रूप में अनिल अंबानी के रिलायंस डिफेंस का प्रस्ताव दिया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फ्रेंच सरकार ने कहा "फ्रांसीसी सरकार भारतीय औद्योगिक भागीदारों की पसंद में शामिल नहीं है, वह फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा चुनी गई थी''. फ्रांस की सरकार का कहना है कि भारत की अधिग्रहण प्रक्रिया के अनुसार, फ्रांसीसी कंपनियों को भारतीय साझेदार कंपनियों को चुनने की पूरी आजादी है.

फ्रांसीसी दूतावास द्वारा जारी एक बयान में यूरोप और विदेश मामलों के मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, "ऐसा होने पर, भारतीय कानूनों के ढांचे के तहत सार्वजनिक और निजी दोनों भारतीय कंपनियों के साथ फ्रांसीसी कंपनियों द्वारा अनुबंधों पर पहले ही नई दिल्ली में हस्ताक्षर किए जा चुके हैं."

ये भी पढ़ें : राफेल डील : पूर्व फ्रेंच प्रेजिडेंट के खुलासे के बाद फ्रांस सरकार ने दी ये सफाई

First published: 22 September 2018, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी