Home » इंडिया » DCW Chief Swati Maliwal breaks her indefinite hunger strike
 

स्वाति मालीवाल की भूख हड़ताल खत्म, POCSO एक्ट में चाहती थीं बदलाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 April 2018, 15:28 IST

बीते दस दिनों से भूख हड़ताल कर रहीं दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने अपना अनशन खत्म कर दिया है. स्वाति मालीवाल ने रविवार को अपना अनशन खत्म किया है. स्वाति ने यह ऐलान मोदी सरकार द्वारा अध्यादेश लाने के फैसले के बाद किया.

दरअसल, देश में मासूमों के साथ हो रहे बलात्कार को लेकर कई दिनों से POCSO एक्ट में बदलाव की मांग उठ रही थी. जिसे लेकर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर थीं. उनकी मांग थी कि मासूमों के साथ बलात्कार करने वाले को फांसी की सजा होने चाहिए. इसको लेकर मोदी सरकार ने शनिवार को कैबिनेट मीटिंग में अध्यादेश पेश किया था. आज राष्ट्रपति ने भी इस अध्यादेश को अपनी मंजूरी दे दी है.

इसके तहत अब 12 साल तक की बच्चियों से दुष्कर्म करने वालों को अधिकतम मौत की सजा दी जाएगी. अभी पॉक्सो के तहत कम से कम सात साल और अधिकतम उम्र कैद की सजा का प्रावधान है.

अनशन खत्म करने के बाद स्वाति ने कहा, "मैं अकेले अनशन पर बैठी थी, लेकिन पूरा देश मेरे साथ था. स्वतंत्र भारत में यह एक ऐतिहासिक जीत है. मैं सबको जीत की बधाई देती हूं."

पढ़ें- स्वाति मालीवाल को केजरीवाल ने दी बधाई, कहा- अब ख़त्म करो भूख हड़ताल

इससे पहले शनिवार को उन्होंने कहा था कि वह नए कानून के लागू होने तक अपना अनशन खत्म नहीं करेंगी. उन्होंने कहा था, "हर रोज सरकार द्वारा अदालतों में हलफनामे जमा किए जाते हैं. जब तक कानून लागू नहीं होता, मैं नहीं रूकूंगी. नाबालिगों के साथ दुष्कर्म के दोषियों को छह महीने के भीतर मौत की सजा का कानून होना चाहिए."

अरविन्द केजरीवाल ने की थी अनशन खत्म करने की मांग
इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को स्वाति मालीवाल को बधाई देते हुए भूख हड़ताल ख़त्म करने के लिए कहा था. केजरीवाल ने यह बात केंद्र सरकार के उस आश्वासन के बाद कही थी जिसमें सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने कहा कि उसने पीओसीएसओ (POCSO) अधिनियम में संशोधन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है ताकि बच्चों के रेप के आरोपी को मृत्युदंड दिया जा सके.

First published: 22 April 2018, 15:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी