Home » इंडिया » 3000 crore Defamation suit filed against Ratan Tata and Tata Group
 

टाटा समूह और रतन टाटा पर 3000 करोड़ की मानहानि का केस दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:14 IST
(एजेंसी)

टाटा समूह की कुछ कंपनियों में एक स्वतंत्र निदेशक और उद्योगपति नुस्ली वाडिया ने रतन टाटा, टाटा सन्स और उसके निदेशकों के खिलाफ 3000 करोड़ रुपये की मानहानि का मामला दर्ज कराया है.

इस मामले में वाडिया के नजदीकी सूत्रों ने बताया है कि यह मामला आज मुंबई उच्च न्यायालय में दर्ज कराया गया.

टाटा सन्स ने टाटा मोर्ट्स, टाटा स्टील और टाटा केमिकल्स समेत टाटा समूह की फर्मों में स्वतंत्र निदेशक वाडिया पर अपने हित साधने का आरोप लगाते हुए उन्हें निदेशक मंडल से हटाने के लिए प्रस्ताव पेश किया था जिस पर कंपनियों के संबंधित शेयरधारकों को मतदान करना है.

22 दिसंबर को होने वाली ईजीएम से ठीक पहले नुस्ली वाडिया ने शेयर होल्डर्स को लिखे एक पत्र में कहा है कि नैनो में निवेश और घाटा हजारों करोड़ रुपए में है.

इस छोटी कार (नैनो) को क्यों बंद किया जाना चाहिए इस पर अपना तर्क देते हुए उन्होंने कहा, “नैनो, साल 2008 में इस कार को 1 लाख रुपए में बेचने की कल्पना की गई थी, जो कि बाद में टाटा मोटर्स के वित्तीय संसाधनों की बरबादी की मुख्य वजह साबित हुई. यहां तक कि कार की कीमत 2.25 लाख रुपए रखने पर न तो कार की बिक्री हुई और न ही यह व्यवहारिक था क्योंकि वाहन की हर बिक्री पर कंपनी को नुकसान हुआ."

इससे पहले भी वाडिया ने टाटा सन्स बोर्ड को मानहानि नोटिस देकर कहा था कि वह उनके खिलाफ लगाए गए झूठे अपमानसूचक और अपमानजनक आरोप वापस लें.

First published: 16 December 2016, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी