Home » इंडिया » Defence Minister in Lok Sabha: first rafale aircraft will be delivered in September 2019
 

राफेल पर संसद में रक्षा मंत्री ने दिया जवाब, बताया भारत कब आएगा पहला राफेल एयरक्राफ्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 January 2019, 15:12 IST

आज लोकसभा में रक्षमंत्री निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस के सवालो का जवाब दिया. इस दौरान लोकसभा में कांग्रेस ने जोरदार हंगामा किया. रक्षा मंत्री ने सवाल किया कि आखिर कांग्रेस 2014 तक इस डील को पूरा क्यों नहीं कर पाई? उन्होंने कहा यूपीए को बताना चाहिए कि वे अपनी कार्यकाल में राफेल का एक भी विमान क्यों नहीं ला सके.

इस दौरान रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार संसद में राफेल पर जवाब देने को तैयार है लेकिन कांग्रेस पार्टी तथ्यों से दर रही है. उन्होंने कहा हमें इस मामले में चीन से सीखना चाहिए. इससे पहले  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे और रणदीप सुरजेवाला ने सौदे पर पीएसी की रिपोर्ट सहित कई दस्तावेज पेश किए.

रक्षा मंत्री ने सवाल किया कि ''चीन ने अपनी सेना में 4 हजार के करीब विमानों को जोड़ा, लेकिन कांग्रेस ने अपने शासनकाल के दौरान क्या किया? आखिर जिन 126 विमानों का जिक्र करते हैं वे कहां हैं?. सीतारमन ने कहा ''मैं आपको बताना चाहती हूं कि रक्षा सौदा और रक्षा में सौदेबाजी में फर्क होता है.

हमारी सरकार ने देश की सुरक्षा से समझौता नहीं किया. हमने डील में तेजी दिखाई'' उन्होंने कहा ''हमारी सरकार ने महज 14 महीनों में ही सौदे की प्रक्रिया पूरी कर ली, वहीं राफेल की डिलिवरी तय समय से 5 महीने पहले हो रही है''. रक्षामंत्री ने कहा ''सितंबर 2019 में देश को पहला राफेल विमान मिल जाएगा और 2022 तक सभी 36 राफेल विमान देश को मिल जाएंगे''.

लोकसभा में रक्षा मंत्री ने कहा कि राफेल बनाने वाली कंपनी दसॉ ने HAL के बनाए विमानों की गारंटी नहीं ली. आज कांग्रेस HAL के लिए घड़ियाली आंसू बहा रही है. रक्षा मंत्री ने कहा अगर यहां AA का जिक्र है तो वहां RV है और RV प्रधानमंत्री के नहीं देश के दामाद हैं.

ये भी पढ़ें : राफेल विवाद: राहुल गांधी के निशाने पर अरुण जेटली, बोले- वित्त मंंत्री ने मुझे गाली दी

 
First published: 4 January 2019, 14:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी