Home » इंडिया » Defence Minister Rajnath Singh leaves for Moscow on a 3-day visit
 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तीन दिवसीय रूस यात्रा पर रवाना, विजय दिवस परेड में करेंगे शिरकत

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2020, 11:11 IST

Defence Minister Rajnath Singh leaves for Moscow: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपनी तीन दिवसीय रूस यात्रा के लिए आज रवाना हो गए. वहां राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) मॉस्को में आयोजित होने वाली विजय दिवस परेड में शिरकत करेंगे. बता दें कि रूस की राजधानी मॉस्को में आयोजित होने वाली ये परेड द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मनी पर सोवियत संघ की जीत की 75वीं वर्षगांठ के उपलब्ध में आयोजित कराई जा रही है. ऐसा माना जा रहा है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) इस दौरान भारत-रूस रक्षा और रणनीतिक साझेदारी को और गहरा करने के तरीकों पर रूस के अधिकारियों से बातचीत करेंगे.

बता दें कि रक्षा मंत्री की ये यात्रा ऐसे समय में हो रही है, जब लद्दाख में भारत (India) और चीन (China) की सेनाओं (Armies) के बीच जंग जैसे हालात पैदा हो गए हैं. बता दें कि सिंह की इस यात्रा के दौरान रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव 23 जून को 'रूस-भारत-चीन' त्रिपक्षीय विदेश मंत्री वार्ता की मेजबानी करेंगे. ऐसे में देखा जा सकता है कि मॉस्को भारत और चीन के बीच बढ़े तनाव के दौरान अहम भूमिका निभा सकता है. बता दें कि पिछले कुछ सप्ताह से मॉस्को की ओर से नई दिल्ली के साथ कई बार बातचीत की गई है. 


कोरोना वायरस: दुनियाभर में 4.70 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 90 लाख के पार

वहीं रूस के भी रिश्ते चीन के साथ बीते कुछ समय में ठीक हुए हैं जिसकी वजह चीन पर अमेरिकी प्रतिबंध है. क्योंकि चीन के व्यापार का एक बड़ा हिस्सा अमेरिका से भी जुड़ा है. इसके अलावा नई दिल्ली का मॉस्को के साथ मजबूत द्विपक्षीय संबंधों का इतिहास रहा है. 2017 में दोकलम विवाद के दौरान, बीजिंग में रूसी राजनयिकों को चीन सरकार द्वारा इस मुद्दे पर जानकारी दी गई थी. गौरतलब है कि लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुए विवाद के दो दिन बाद रूस में भारत के राजदूत डी बाला वेंकटेश वर्मा और रूस के उप विदेश मंत्री इगोर मोर्गुलोव के बीच फोन पर लंबी बातचीत हुई थी.

दिल्ली में झमाझम बारिश से खुशनुमा हुआ मौसम, इन राज्यों में जल्द मानसून पहुंचने की संभावना

इस बातचीत में रूस के उप विदेश मंत्री को चीन और भारत के बीच सीमा पर हुए विवाद के बारे में जानकारी दी गई. साथ ही यह भी बताया कि इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद भी हुए हैं. इस घटना में एक कर्नल रैंक के अधिकारी भी शहीद हुए थे. वहीं, रूस के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया कि दोनों अधिकारियों ने क्षेत्रीय सुरक्षा पर चर्चा करते हुए हिमालय में भारत और चीन की सीमा पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (LaC) पर विकास को लेकर चर्चा की.

सेना को LAC पर दी गई पूरी आजादी, इन खास परिस्थितियों में कर पाएंगे हथियार इस्तेमाल

Coronavirus Update : पिछले 24 घंटों में 14,400 नए मामले, 400 से अधिक मौतें

बता दें कि इससे पहले, छह जून को भारत और चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर हुई बातचीत से पहले, भारत के विदेश सचिव हर्ष वर्धन श्रृंगला ने रूसी राजदूत निकोलय कुदाशेव को एलएसी पर उत्पन्न हुई स्थिति को लेकर जानकारी दी थी. सीमा विवाद के चरम पर पहुंचने पर विदेश सचिव और एक विदेशी राजदूत के बीच यह सार्वजनिक रूप से हुई एकमात्र बैठक थी. वहीं मंगलवार को होने वाली त्रिपक्षीय विदेश मंत्री वार्ता भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी स्टेट काउंसिलर और विदेश मंत्री वांग यी के बीच सीमा विवाद को लेकर होने वाली पहली बैठक होगी.

पेट्रोल-डीजल की कीमत में लगाार 16वें दिन बढ़ोतरी, अब इतने हुए तेल के दाम

First published: 22 June 2020, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी