Home » इंडिया » Defence Ministry writes to CBI, seeks preliminary inquiry in 2008 Embraer aircraft deal
 

यूपीए सरकार में हुए एम्ब्रेयर विमान घोटाले की जांच के लिए रक्षा मंत्रालय ने लिखा सीबीआई को पत्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2016, 16:20 IST
(पत्रिका)

रक्षा मंत्रालय ने सीबीआई को यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुए 20.8 करोड़ डॉलर के एम्ब्रेयर विमान सौदे में रिश्वत लिए जाने के आरोपों की जांच करने को कहा है.

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इस संबंध में  सीबीआई को पत्र लिखा है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक आरोप गंभीर प्रकृति के हैं इसलिए सीबीआई से जांच करने को कहा गया है. 

यह सौदा वर्ष 2008 में ब्राजील के विमान निर्माता एम्ब्रेयर और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के बीच हुआ था.

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इस हफ्ते की शुरूआत में कहा था, ‘‘अगर इसमें कोई आपराधिक पहलू है तो उसकी जांच सीबीआई करेगी. मंत्रालय जांच नहीं कर सकता है.’’ उन्होंने कहा था, ‘‘अगर यह मसला केवल प्रक्रिया से जुड़ा है तो रक्षा मंत्रालय आतंरिक जांच कर सकता है.’’

रक्षा मंत्रालय सूत्रों ने कहा कि डीआरडीओ ने मीडिया में आई खबरों के आधार पर एम्ब्रेयर विमान के निर्माता से 15 दिनों के अंदर सूचना मांगी है. डीआरडीओ से मिली सूचना के आधार पर आगे की कार्रवाई शुरू की जाएगी. संदेह जताया जा रहा है कि ब्रिटेन स्थित एक प्रमुख भारतीय बिचौलिए ने इस समझौते में अहम भूमिका निभाई.

सप्रंग सरकार के कार्यकाल में एम्ब्रेयर के तीन विमानों के लिए हुआ समझौता अमेरिकी अधिकारियों की जांच के घेरे में है. अधिकारियों को संदेह है कि अनुबंध हासिल करने के लिए कंपनी की ओर से घूस दी गई थी. अमेरिका का न्याय विभाग भी संदेह के घेरे में आई कंपनी की जांच कर रहा है.

वहीं, डीआरडीओ ने ब्राजील की कंपनी से स्पष्टीकरण मांगा है. कंपनी का कहना है कि वह बीते पांच साल के रिश्वत के गंभीर आरोपों को देख रही है.

यह समझौता साल 2008 में एईडब्ल्यू एंड सी (विमानों के लिए आरंभिक चेतावनी तथा नियंत्रण प्रणाली) के लिए स्वेदशी रडार से लैस तीन विमानों के लिए ब्राजील के विमान निर्माता एम्ब्रेयर और डीआरडीओ के बीच हुआ था.

First published: 14 September 2016, 16:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी