Home » इंडिया » Delhi Assembly Election: These 10 issues of Delhi Voters in Assembly Elections
 

दिल्ली विधानसभा चुनाव: इन मुद्दों पर चुने जाएंगे दिल्ली के विधायक, शिक्षा-स्वास्थ्य और प्रदूषण जैसी समस्या हैं आम

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2020, 9:28 IST

Delhi Assembly Election: दिल्ली की सभी 70 विधानसभा सीटों (Assembly Seats) के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं. आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Patry), बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) दिल्ली (Delhi) की सत्ता में आने के लिए जनता से कई वादे किए हैं. लेकिन दिल्ली की जनता के सामने जो सबसे बड़ी समस्याएं हैं उनमें प्रदूषण (Pollution), पानी (Water), अच्छी सड़कें और महिला सुरक्षा जैसे मद्दे शामिल हैं. दिल्ली के 1.47 करोड़ से ज्यादा मतदाता इन्हीं सब मुद्दों को लेकर नई सरकार के लिए वोट डालने जा रहे हैं. ऐसे में सभी पार्टियां अपने चुनावी वादों को लेकर सरकार (Government) बनाने के लिए चुनाव मैदान में हैं.

ये हैं दिल्ली के वोटर्स के लिए बड़े मुद्दे-

दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण-

इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में लोगों के लिए जो मुद्दे हैं उनमें दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण शामिल है. दिल्ली में बढ़ता प्रदूषण सबसे बड़ा मुद्दा है. क्योंकि दिल्ली का प्रदूषण लोगों की सेहत को खराब कर रहा है. इसी मुद्दे पर लोग आज वोट डालने के लिए अपने-अपने घरों से निकल रहे हैं. बता दें कि पिछले कुछ सालों में दिल्ली के प्रदूषण में इजाफा हुआ है. जिसपर कोई सरकार अबतक पाबंदी लगाने में नाकाम रही है. इसी प्रदूषण के मुद्दे को लेकर दिल्ली की जनता आज ईवीएम में अपना वोट डालेगी.

पानी की समस्या-

इसके अलावा दिल्ली में पानी की समस्या भी आम आदमी के लिए बड़ा मुद्दा है. क्योंकि, दिल्ली में पानी की सुविधा हर व्यक्ति से जुड़ी है. आपके इलाके में ये व्यवस्था कितनी मजबूत है, इस पर विचार जरूर करना चाहिए. आपके इलाके में पानी की आपूर्ति किस तरह से हो रही है. इस बात पर भी आपको ध्यान देने की जरूरत है.

परिवहन की समस्या-

इसके अलावा दिल्ली में आम आदमी के लिए परिवहन की समस्या भी काफी बड़ी है. आपके जीवन में परिवहन व्यवस्था के क्या मायने हैं, आप इसका कितना इस्तेमाल करते हैं और इससे कितने संतुष्ट हैं. इस मुद्दे के आधार पर आपको अपने अपना मत देना चाहिए. क्योंकि दिल्ली के जाम में फंसने से लोगों को बहुत दिक्कत झेलनी पड़ती है. ऐसे में परिवहन की समस्या भी लोगों के जीवन में बहुत मायने रखती है.

दिल्ली में शिक्षा का मुद्दा-

अगर दिल्ली में बुनियादी सेवाओं की बात करें तो इसमें शिक्षा भी शामिल है. ऐसे में विकसित समाज की कल्पना के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है. आपके इलाके में स्कूलों की व्यवस्था कैसी है, आपके बच्चे सरकारी या निजी किस स्कूल में शिक्षा ले रहे हैं, दिल्ली में वाकई शिक्षा के स्तर पर सुधार हुआ है या नहीं, प्राइवेट स्कूलों में घूस दे रहे हैं वह कम हुई या नहीं. ये भी वोटर्स को ही तय करना है. क्योंकि आखिर में आप ही अपने प्रतिनिधि को चुनकर विधानसभा भेजते हैं जो आपके लिए मिलने वाली सुविधाओं में इजाफा कर सकते हैं.

स्वास्थ्य-

इनके अलावा दिल्ली में हर शख्स के लिए स्वास्थ्य सबसे पहले आता है. जब आप स्वस्थ होंगे तभी ये समाज स्वस्थ होगा और देश तरक्की करेगा. आप अपने घर के आसपास की स्वास्थ्य सेवाओं से कितने संतुष्ट हैं. क्या आपके लिए मिलने वाली स्वास्थ्य सेवाएं काफी हैं. जब आप वोट डालने घर से बाहर निकलें तो ये मुद्दा भी आपके दिमाग में जरूर रहना चाहिए.

महिला सुरक्षा-

दिल्ली में महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को लेकर भी हमें जरूर सोचना चाहिए. क्योंकि राजधानी में महिला सुरक्षा का मुद्दा बहुत गंभीर है. यही नहीं हर चुनाव में दिल्ली में महिला सुरक्षा की बात जरूर होती है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव : बांग्लादेश से आयी 111 साल की कलितारा मंडल होगीं सबसे बुजुर्ग वोटर

दिल्ली विधानसभा चुनाव: इन मुद्दों पर चुने जाएंगे दिल्ली के विधायक, प्रदूषण जैसी समस्याएं हैं आम

Delhi Election Voting Live: दिल्ली विधानसभा के लिए वोटिंग शुरु, 672 प्रत्याशियों की किस्मत का होगा फैसला

First published: 8 February 2020, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी