Home » इंडिया » Delhi Assembly Elections: Prashant Kishor will now work for Aam Aadmi Party
 

केजरीवाल के लिए चुनावी रणनीति बनाएंगे प्रशांत किशोर, सिसौदिया बोले- अबकी बार 67 पार

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 December 2019, 12:47 IST

Delhi Assembly Elections: साल 2014 में नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) के प्रधानमंत्री(Prime Minister) बनने के बाद जिस एक नाम की सबसे ज्यादा चर्चा हुई थी. वह नाम था प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) का. प्रशांत किशोर ने नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार अभियान में मुख्य भूमिका निभाई थी. अब प्रशांत किशोर अगले साल दिल्ली में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) की आम आदमी पार्टी(AAP) का प्रचार अभियान संभालने जा रहे हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर जानकारी दी कि प्रशांत किशोर की एजेंसी IPac आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव में AAP को जितवाने के लिए उनके साथ काम करेगी. इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी यानि IPac प्रशांत किशोर की एजेंसी है. यह मुख्य रूप से राजनीतिक पार्टियों के लिए चुनाव में रणनीति बनाने का काम करती है. 

केजरीवाल के ट्वीट पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने ट्वीट कर कहा कि अबकी बार 67 बार. गौरतलब है कि साल 2015 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में से 67 पर जीत हासिल हुई थी. तीन सीटें भारतीय जनता पार्टी को मिली थीं. वहीं कांग्रेस पार्टी का चुनाव में सूपड़ा साफ हो गया था.

फिलहाल, IPac पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के साथ काम कर रही है. तृणमूल कांग्रेस 2021 में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए IPac की सेवाएं ले रही है. इससे पहले IPac कई राज्यों में अन्य पार्टियों के लिए काम कर चुकी है. उन्होंने आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी की पार्टी के लिए काम किया था.

इसके अलावा बिहार विधानसभा चुनाव में प्रशांत किशोर ने महागठबंधन की तरफ से चुनाव प्रचार अभियान की भूमिका संभाली थी. जिसमें महागठबंधन यानि जदयू, राजद और कांग्रेस ने मिलकर बीजेपी की एनडीए को बड़ी मात दी थी. वहीं, यूपी चुनाव के समय IPac ने कांग्रेस के लिए काम किया था. हालांकि उस चुनाव में कांग्रेस पार्टी को मुंह की खानी पड़ी थी. फिलहाल प्रशांत किशोर जदयू के उपाध्यक्ष हैं. 

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए सीएम योगी ने हर परिवार से मांगे पत्थर और 11 रुपये

Vijay Diwas: 8 महीने तक इंदिरा गांधी को बांग्लादेश के आजाद होने का इंतजार करना पड़ा

First published: 14 December 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी