Home » इंडिया » Delhi Court sends former JNU student Umar Khalid to judicial custody till 22nd October
 

Delhi Riots: उमर खालिद को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया, 13 सितंबर को हुए थे गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 September 2020, 16:54 IST

Umar Khalid UAPA Case: दिल्ली(Delhi) की एक अदालत ने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (Jawaharlal Nehru University) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद (Umar Khalid) को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. उमर खालिद फरवरी महीने में उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North-East Delhi) में हुई सांप्रदायिक हिंसा (Communal Violence) मामले में कार्रवाई का सामना कर रहे हैं.

उमर खालिद को कठोर आतंकवाद रोधी कानून, गैर-कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (Unlawful Activities (Prevention) Act) के तहत गिरफ्तार किया गया था. 13 सितंबर को गिरफ्तारी के बाद उनकी पुलिस हिरासत की अवधि पूरी होने पर खालिद को वीडियो कांफ्रेंस के जरिये अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश के सामने पेश किया गया था.

दिल्ली पुलिस ने अपनी प्राथमिकी में कहा है कि सांप्रदायिक हिंसा पहले से नियोजित साजिश थी. इस साजिश में उमर खालिद और दो अन्य लोग शामिल थे. पुलिस ने उमर खालिद के खिलाफ राजद्रोह, हत्या, हत्या का प्रयास, धार्मिक द्वेष पैदा करने तथा दंगा भड़काने के आरोप के तहत केस दर्ज किया है.

राहुल गांधी का निशाना- किसानों के बाद मज़दूरों पर वार, यही है बस मोदी जी का शासन 

पुलिस ने अपने एफआईआर में आरोप लगाया है कि उमर खालिद ने दो अलग-अलग जगहों पर भड़काऊ भाषण दिया था. इस दौरान उन्होंने लोगों से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान सड़क पर उतरने तथा सड़कें जाम करने की बात कही थी. जिससे कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दुष्प्रचार किया जा सके कि भारत में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहा है.

प्राथमिकी में कहा गया कि षड़यंत्र को अंजाम देने के लिये कई लोगों ने अपने घरों में हथियार, पेट्रोल बम, तेजाब की बोतलें तथा पत्थर जमा किये थे. 23 फरवरी को महिलाओं तथा बच्चों को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे सड़क जाम करने के लिये कहा गया था, इससे आसपास रह रहे लोगों में तनाव पैदा किया जा सके.

Rapist Poster: योगी सरकार का बड़ा ऐलान, रेपिस्टों और शोहदों के चौराहों पर लगेंगे पोस्टर

Theft in Shimla Temple: भगवान के घर में पड़ गया डाका, चोरों ने 150 साल पुरानी मूर्तियों को कर दिया गायब

First published: 24 September 2020, 16:54 IST
 
अगली कहानी