Home » इंडिया » Delhi: Diesel-taxi drivers hold protest, demand ban on diesel taxis be revoked
 

डीजल टैक्सी ऑपरेटरों ने दिल्ली-एनसीआर में लगाया जाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2016, 15:54 IST

सुप्रीम कोर्ट के डीजल टैक्सियों पर एक मई से प्रतिबंध के आदेश के खिलाफ टैक्सी ऑपरेटरों ने आज दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के अलग-अलग इलाकों में प्रदर्शन किया. इस दौरान कई जगह लंबा जाम लग गया.

टैक्सी ऑपरेटर एक मई से लागू हुए बैन को हटाने की मांग कर रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को डीजल टैक्सी मालिकों को राहत देने से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने 30 अप्रैल तक दी गई छूट सीमा का मियाद बढ़ाने से इनकार कर दिया था.

taxi3

सीएनजी में बदलने का आदेश


अदालत के फैसले के बाद केवल सीएनजी वाली टैक्सी ही सड़कों पर चल सकती हैं. कोर्ट ने सभी निजी डीजल टैक्सियों को सीएनजी में बदलवाने का आदेश दिया है. हालांकि ऑल इंडिया परमिट वाली टैक्सियों को इससे छूट दी गई है.

पढ़ें:दिल्ली-NCR में एक मई से नहीं चलेंगी डीजल टैक्सियां

वहीं टैक्सी चालकों के विरोध प्रदर्शन की वजह से दिल्ली और एनसीआर में कई जगह जाम देखने को मिला. जिसकी वजह से लोगों को भारी मुसीबत झेलनी पड़ी.

दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेसवे पर प्रदर्शन की वजह से कई किलोमीटर तक जाम लग गया, जिसके चलते सड़क पर गाड़ियां रेंगती नजर आईं.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ दिल्ली के जंतर-मंतर पर भी टैक्सी ऑपरेटरों ने विरोध प्रदर्शन किया. रिंग रोड पर भी कई जगह टैक्सी चालकों ने जाम लगा दिया. 

डीएनडी-गुड़गांव में जाम


डीएनडी (दिल्ली-नोएडा डायरेक्ट) पर टैक्सी ड्राइवरों ने जाम लगा दिया. जिसके चलते वाहन चालकों को काफी दिक्कत झेलनी पड़ी. डीएनडी के रास्ते दिल्ली से नोएडा और नोएडा से दिल्ली की ओर जाने वाले हजारों वाहन गुजरते हैं.

वहीं आश्रम चौक पर भी टैक्सी ऑपरेटर इकट्ठा हुए. जिसके बाद वहां भी भीषण जाम लग गया. इस दौरान वाहनों की रफ्तार थम गई. अदालत ने शनिवार को टैक्सी मालिकों को छूट देने से इनकार कर दिया था. 

पढ़ें:सुप्रीम कोर्ट ने डीजल गाड़ियों पर लगाया बैन: 2000 सीसी से ज्यादा का पंजीकरण नहीं

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की वजह से कोर्ट ने डीजल से चलने वाली टैक्सियों को प्रतिबंधित करने का फैसला लिया है. अदालत ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा था कि एसी कमरों में बैठकर कॉफी की चुस्की लेने से बेहतर है कि आप पता करें कि दूसरे देशों में क्या प्रक्रिया अपनाई जा रही है.

taxi2

दिल्ली में 27 हजार डीजल टैक्सियां


अदालत के फैसले के बाद दिल्ली और एनसीआर की सड़कों पर डीजल टैक्सियां नहीं चल सकती हैं. अनुमान के मुताबिक दिल्ली में करीब 27 हजार प्राइवेट डीजल टैक्सियां हैं.

सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वायरमेंट (सीएसई) के मुताबिक एक सर्वे में सामने आया है कि एक डीजल कार, 20 पेट्रोल कारों के बराबर प्रदूषण करती है.

दिल्ली और एनसीआर में करीब 40 हजार डीजल टैक्सियां हैं. ऐसे में अदालत के फैसले से करीब आठ लाख पेट्रोल कारों के बराबर प्रदूषण सीधे-सीधे खत्म हो जाएगा.

पढ़ें:डीजल कारों पर रोक से इंडस्ट्री परेशान, क्या प्रदूषण पर लगेगी लगाम?


First published: 2 May 2016, 15:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी