Home » इंडिया » Delhi government claims 25% reduction in air pollution false : Greenpeace
 

दिल्ली सरकार का 25% वायु प्रदूषण कम होने का दावा गलत : ग्रीनपीस इंडिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 November 2019, 10:08 IST

पर्यावरण समूह ग्रीनपीस इंडिया का कहना है कि दिल्ली सरकार का वायु प्रदूषण 25 प्रतिशत तक कम होने का दावा झूठा है. आम आदमी पार्टी की सरकार ने हाल ही में दावा किया है कि 2016 और 2018 के बीच शहर में PM2.5 का स्तर 115 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गया, जो 2012 और 2014 के बीच 154 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था. PM2.5 एक प्रमुख वायु प्रदूषक 2.5 माइक्रोन से कम व्यास के साथ कण को संदर्भित करता है.

ग्रीनपीस इंडिया ने कहा कि उपग्रह डेटा ने 2013 से 2018 तक PM2.5 के स्तर में कोई सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण कमी नहीं दिखाई है. ग्रीनपीस ने कहा कि पिछले तीन वर्षों की तुलना में 2018 के उत्तरार्द्ध में केवल मामूली कमी थी. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों का हवाला देते हुए ग्रीनपीस ने कहा कि 2013, 2014 और 2015 की तुलना में 2018 में पीएम 10 का स्तर बढ़ा है.

 

ग्रीनपीस ने कहा कि दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में 2015-16 से 2018-19 तक कोयले की खपत 17.8% बढ़ी है. "दूसरी ओर कुल पेट्रोलियम उत्पाद की खपत में इसी अवधि में 3.3% की वृद्धि हुई. हालांकि आम आदमी पार्टी का दावा है कि सुप्रीम कोर्ट को दिए गए हलफनामे में केंद्र ने कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण कम हो गया है और अक्टूबर और नवंबर में प्रदूषण पराली जलने के कारण है.

दिल्ली के बाद अब UP की वायु गुणवत्ता बिगड़ी, लोगों को आने लगे चक्कर

 

First published: 8 November 2019, 10:08 IST
 
अगली कहानी