Home » इंडिया » Delhi high court decided begging is not a crime, no punishment for it
 

सरकार के पास देने को भोजन और नौकरी नहीं, ऐसे में भीख मांगना अपराध कैसे?

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2018, 9:15 IST

भीख मांगने को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है. दिल्ली हाई कोर्ट ने देश की राजधानी में भीख मांगे वाले लोगों के लिए एक फैसला सुनाया. हाई कोर्ट ने भीख मांगने को अपराध की श्रेणी से अलग रखने का फैसला सुनाया है. सड़कों पर भीख मांगने का काम कोई ख़ुशी से नहीं करता. भीख मांगना अपनी जरूरतें पूरी करने का आखिरी उपाय है. इससे अपराध की सूची में रखकर समाज के सबसे कमजोर तबके के लोगों के साथ अन्याय होगा. ये उनके मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है.

इसी के साथ कोर्ट ने इन कमजोर तबके के लोगों की बेसिक जरूरतें पूरी न कर पाने के लिए सरकार को तलब किया. कोर्ट ने कहा कि जीवन के अधिकार के अंतर्गत सभी नागरिकों की न्यूनतम जरूरतें पूरी करने की जिम्मेदारी सरकार है. जिसे वो पूरा नहीं कर पा रही है.

राज्यसभा उपसभापति चुनाव: हरिवंश या हरिप्रसाद किसकी झोली में कितने वोट? कौन जीतेगा ये मुकाबला?

कोर्ट ने भीख मांगने वालों को सजा देने के प्रावधान को असंवैधानिक बताया. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने कहा कि भीख मांगने को अपराध बनाने वाले बंबई भीख रोकथाम कानून के प्रावधान संवैधानिक परीक्षण में टिक नहीं सकते.

इस मामले में बेंच ने 23 पन्नों का फैसला सुनाया. इस फैसले में भीख मांगने को आपराधिक सजा के दायरे से बाहर करते हुए कोर्ट ने ये भी कहा कि लोगों को भीख मांगने पर मजबूर करके अपनी जेब भरने वाले गिरोहों पर दिल्ली सरकार सख्त कार्यवाई करने को स्वतंत्र है. इसके लिए वो कोई वैकल्पिक क़ानून भी ला सकती है.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे के बाद क्या CM नीतीश भी देंगे इस्तीफा ?

ये फैसला हर्ष मंदर और कर्णिका साहनी द्वारा दायर की गई एक पीआईएल पर सुनाया. इस पीआईएल में दिल्ली में भिखारियों के लिए मूलभूत मानवीय और मौलिक अधिकार मुहैया कराए जाने का अनुरोध किया गया था. अदालत ने इस कानून की कुल 25 धाराओं को रद्द किया. गौरतलब है कि अदालत ने 16 मई को पूछा था कि ऐसे देश में भीख मांगना अपराध कैसे माना जाए जहां सरकार भोजन या नौकरियां देने में असमर्थ है.

First published: 9 August 2018, 9:15 IST
 
अगली कहानी