Home » इंडिया » Delhi High Court rejects TATA application on Hotel Taj Mansingh lease extension
 

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिया टाटा को झटका, होटल ताज मानसिंह की लीज बढ़ाने से इनकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 6:43 IST
(होटल ताज मानसिंह)

टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री के ई-मेल धमाके के बाद अब दिल्ली हाईकोर्ट ने टाटा समूह के लिए नई परेशानी खड़ी कर दी है.

कोर्ट ने नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के द्वारा ताज मानसिंह होटल की नीलामी के खिलाफ इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड (आईएचसीएल) की याचिका को आज खारिज कर दिया.

आईएचसीएल ताज मानसिंह होटल का परिचालन करती है और यह टाटा समूह की कंपनी है. हाई कोर्ट के इस फैसले को टाटा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

इस मामले में जस्टिस प्रदीप नंदराजोग और जस्टिस प्रतिभा रानी की पीठ ने अपने फैसले में कहा, "टाटा समूह वाली आईएचसीएल के द्वारा दायर की गई होटल ताजमान सिंह की लीज बढ़ाने की याचिका खारिज की जाती है."

इस मामले में खंडपीठ ने 24 अक्तूबर को आईएचसीएल की याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा था. इसमें एकल जज के उस आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें एनडीएमसी को इस संपत्ति की नीलामी रोकने का आदेश देने की याचिका खारिज कर दी गई थी.

हाई कोर्ट के एकल जज ने इसके अलावा पांच सितंबर के अपने आदेश में आईएचसीएल के और अवधि के लिए लाइसेंस के नवीकरण संबंधी आग्रह को भी खारिज करते हुए कहा था कि कंपनी विस्तार पाने की पात्र नहीं है.

गौरतलब है कि एनडीएमसी के स्वामित्व वाली इस संपत्ति को आईएचसीएल को 33 साल की लीज पर दिया गया था.

टाटा समूह को दी गई यह लीज अवधि 2011 में समाप्त हो गई थी. इसके बाद अलग-अलग आधार पर कंपनी को इसका नौ बार अस्थाई विस्तार दिया गया और इसमें से तीन विस्तार तो केवल पिछले साल में ही दिए गए हैं.

इस मामले में एनडीएमसी ने जनवरी में कहा था कि वह होटल की नीलामी के लिए संपत्तियों का आकलन कर रही है. इस संपत्ति की नीलामी में पहले ही काफी विलंब हो चुका है.

First published: 27 October 2016, 3:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी