Home » इंडिया » delhi high court says no body can touch womans body without her permission, mukharji nagar delhi, chhavi ram of up
 

लड़कियों के शरीर को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने की तल्ख टिप्पणी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2018, 14:19 IST

आज के दिन की सबसे अच्छी खबर आई है. दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि महिला का शरीर उसका है और बिना उसकी सहमति के कोई उसे छू भी नहीं सकता है. अदालत ने नौ साल की एक बच्ची का यौन उत्पीड़न करने के मामले में छवि राम नामक व्यक्ति को दोषी ठहराया और उसे पांच साल कैद की सजा सुनाते हुये यह टिप्पणी की.

दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके के एक भीड़ भरे बाजार में 25 सितंबर 2014 को उत्तर प्रदेश के निवासी छवि राम ने 9 साल की एक नाबालिग लड़की को अनुचित तरीके से छुआ था जिसके बाद अदालत की यह टिप्पणी आई है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सीमा मैनी ने छवि राम को 5 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है.

अदालत ने कहा कि महिला का शरीर उसका अपना होता है और उस पर सिर्फ उसी का अधिकार होता है. दूसरों को बिना उसकी इजाजत के इसे छूने की मनाही है भले ही यह किसी भी उद्देश्य के लिए क्यों न हो.

न्यायाधीश ने यह भी कहा कि ऐसा लगता है कि महिला की निजता के अधिकार को पुरुष नहीं मानते और वे अपनी हवस को शांत करने के लिए बेबस लड़कियों का यौन उत्पीड़न करने से पहले सोचते भी नहीं हैं. न्यायधीश ने कहा कि राम एक 'यौन विकृत' शख्स है जो किसी भी तरह की रियायत का हकदार नहीं है. अदालत ने उस पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया जिसमें से 5 हजार रुपये पीड़िता को दिए जाएंगे.

अदालत ने इसके अलावा दिल्ली प्रदेश विधिक सेवा प्राधिकरण को भी बच्ची को 50,000 रुपये देने को कहा है. अदालत ने यह भी कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ‘ऐय्याश और यौन-विकृति’ वाले पुरुषों द्वारा उनको परेशान करने का सिलसिला अब भी जारी है.

First published: 21 January 2018, 14:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी