Home » इंडिया » Delhi High Court shows anger on Kejriwal government in Max Fort school take over case
 

दिल्ली: मैक्स फोर्ट स्कूल टेकओवर मामला, केजरीवाल सरकार को हाईकोर्ट की फटकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2016, 16:35 IST

दिल्ली हाई कोर्ट ने मैक्सफोर्ट स्कूल को केजरीवाल सरकार की ओर से टेकओवर को लेकर फिलहाल यथास्थिति बनाए रखने को कहा है. कोर्ट ने इस मामले में शिक्षा निदेशालय को कहा कि आप जांच कर सकते हैं, लेकिन फिलहाल स्कूल के खिलाफ सरकारी टेक ओवर करने समेत कोई कड़ा कदम न उठाए.

हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार और शिक्षा निदेशालय को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि आप स्कूल को टेक ओवर करने के दौरान वहां पुलिस को लेकर क्यों गए? ये छोटे-छोटे बच्चों का स्कूल है. कोर्ट को नहीं लगता कि वहां पुलिस की जरूरत थी.

इसके अलावा अदालत ने निरीक्षण के लिए जिस कोर्ट कमिश्नर को स्कूल भेजा था उसको भी दिल्ली सरकार और शिक्षा निदेशालय के अधिकारियों ने स्कूल में घुसने से पहले आई कार्ड दिखाने के लिए कहा. कोर्ट ने इस पर नाराजगी जताते हुए कहा कि कोर्ट के भेजे कमिश्नर के साथ आपने ऐसा बर्ताव क्यों किया?

अगली सुनवाई 23 अगस्त को

कोर्ट ने इस मामले में कहा कि कोर्ट पहले दोनों स्कूल की वीडियो रिकॉर्डिंग देखना चाहता है जो स्कूल को टेक ओवर करने के दौरान बनाया गया था.

हाई कोर्ट ने दोनों पक्षों को इस मामले में अपना हलफनामा देने को कहा है, ताकि सरकार और स्कूल दोनों का पक्ष कोर्ट के सामने साफ हो सके. मामले की अगली सुनवाई 23 अगस्त को होगी.

आरोपों के घेरे में स्कूल

मैक्सफोर्ट स्कूल पर वित्तीय अनियमितताओं का आरोप है. साथ ही स्कूल पर ईडब्ल्यूएस (आर्थिक कमजोर वर्ग) कैटेगरी के बच्चों को एडमिशन न देने और टेम्पररी कॉन्ट्रैक्ट पर टीचर्स रखने का भी आरोप है.

हाल ही में एलजी ने दिल्ली सरकार को स्कूल का टेक ओवर करने की इजाजत दे दी थी. जिसके बाद दिल्ली सरकार ने स्कूल को सील करना शुरू कर दिया था.

गौरतलब है कि करीब 4 महीने पहले ही दिल्ली सरकार ने कहा था कि इस प्राइवेट स्कूल की गड़बडियों को देखते हुए सरकार इसे टेक ओवर करेगी.

केजरीवाल सरकार की तरफ से किसी प्राइवेट स्कूल को टेक ओवर करने का यह पहला मामला है. दिल्ली में स्कूल की दो ब्रांच है. एक पीतमपुरा में है जबकि दूसरी ब्रांच रोहिणी में है.

First published: 10 August 2016, 16:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी