Home » इंडिया » Delhi Metro may raise maximum fare to Rs. 70, DMRC has submitted to the fare fixation committee
 

70 रुपये हो सकता है दिल्ली मेट्रो का अधिकतम किराया

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST

महंगाई की मार से जूझ रही जनता के लिए एक और बुरी खबर है. दिल्ली की लाइफ लाइन मानी जाने वाली मेट्रो जल्द ही लोगों को बढ़े हुए किराए का झटका दे सकती है.

दिल्ली मेट्रो के किराए में दोगुने से ज्यादा का इजाफा किए जाने की संभावना है. फिलहाल दिल्ली मेट्रो में अधिकतम किराया 30 रुपये है, जिसे बढ़ाकर 70 रुपये तक किए जाने की सिफारिश की गई है. 

किराया निर्धारण समिति को सिफारिश

वर्तमान में दिल्ली मेट्रो में कम से कम आठ रुपये किराया देना होता है. इसे बढ़ाकर 10 रुपये किए जाने की बात कही जा रही है. डीएमआरसी फेयर फिक्सेशन कमिटी (किराया निर्धारण समिति) के प्रमुख एमएल मेहता ने माना कि ऐसा प्रस्ताव है.

इस बारे में मेहता का कहना है कि सोमवार को वह इस बारे में ज्यादा बात करेंगे. उन्होंने साफ किया कि बढ़ोतरी को लेकर मेट्रो की तरफ से प्रस्ताव आया है. 

10 से 70 रुपये तक किराये का प्रस्ताव

इस प्रस्ताव में न्यूनतम किराया 10 रुपया और अधिकतम किराया 70 रुपया करने का प्रस्ताव है. बढ़ोतरी की संभावना पर मेट्रो की दलील है कि रख-रखाव और संचालन खर्च में इजाफे के साथ ही स्टाफ के वेतन-भत्ते काफी बढ़ गए हैं.

मेट्रो से जुड़े सूत्रों के मुताबिक डीएमआरसी का बिजली पर खर्च पिछले छह साल के दौरान तकरीबन 100 फीसदी बढ़ गया है. इसके अलावा एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) में मेट्रो नेटवर्क का विस्तार होने से मेट्रो पर बोझ बढ़ा है. 

कर्ज और ऑपरेशनल खर्च का बोझ

दिल्ली मेट्रो का ऑपरेशनल (संचालन) खर्च भी काफी बढ़ चुका है. 2002 में नेटवर्क के संचालन पर 40 फीसदी खर्च के मुकाबले यह अब बढ़कर 70 फीसदी तक पहुंच गया है.   

वहीं मेट्रो का यह भी कहना है कि जापान की जैका (जेएआईसीए) कंपनी से डीएमआरसी ने हजारों करोड़ का कर्ज लिया हुआ है. इसके अलावा भी डीएमआरसी पर कई देनदारियां हैं.

किराए में संभावित बढ़ोतरी के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि भुगतान के लिए आय बढ़ाना जरूरी हो गया है. मेट्रो का यह भी कहना है कि उसके मुनाफे में कमी आई है. 

2009 से नहीं बढ़ा है किराया

इससे पहले अब तक तीन बार मेट्रो का किराया बढ़ाया जा चुका है. अगर इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलती है, तो चौथा मौका होगा जब किराया बढ़ाया जाएगा.

जानकारी के मुताबिक 2009 के बाद से मेट्रो के किराए में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है. मेट्रो ने किराया बढ़ाने के लिए सरकार के पास कई बार स्मरण पत्र (रिमाइंडर) भी भेजे हैं.

First published: 17 June 2016, 3:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी