Home » इंडिया » Delhi Police busts sex racket run by IT consultant with govt links
 

दिल्ली: हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट की इनसाइड स्टोरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:48 IST

दिल्ली पुलिस ने दक्षिणी दिल्ली में सफदरजंग इनक्लेव में चल रहे एक हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है जिसे कथित रूप से एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट कम्पनी से जुड़े एक सलाहकार और सेना के एक पूर्व कर्नल द्वारा संचालित किया जा रहा था. छापे के दौरान पुलिस को उत्तर प्रदेश के सांसद जगदम्बिका पाल, और समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल के फर्जी लेटरहेड भी मिले हैं.

शुरुआती खबरों से पता चला है कि इस रैकेट का लिंक वरिष्ठ नौकरशाहों, राजनेताओं और सेना अधिकारियों तक था जिन्हें विदेशी कॉलगर्ल पहुंचाने का काम यह रैकेट कर रहा था. हालांकि दक्षिण दिल्ली के डीसीपी ईश्वर सिंह का कहना है कि अभी जांच चल रही है. इस बारे में कोई भी निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी. पुलिस के मुताबिक वह इस मामले में और ज्यादा जानकारी के लिए कॉल रिकॉर्ड को खंगाल रही है. पुलिस को इस मामले में और भी नाम सामने आने की उम्मीद है.

दरअसल, इस सेक्स रैकेट का खुलासा गत दो जून को आयकर विभाग द्वारा प्रीतींद्र नाथ सान्याल के घर छापा मारे जाने के बाद हुआ था. सान्याल के घर तलाशी में आयकर अधिकारियों को पांच विदेशी लड़कियों के पासपोर्ट मिले थे. खबरों के अनुसार प्रौद्योगिकी सलाहकार सान्याल आईटी विभाग के लिए कथित रूप से इन्फॉर्मर के रूप में काम कर रहा था. हालांकि उसकी अधिकांश जानकारियां जांच के सिलसिले में गैर उपयोगी ही साबित हुईं.

आयकर विभाग के अधिकारियों का कहना है कि सान्याल छद्म रूप से अधिकारियों को बेवकूफ बनाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों के नामों का बेजा इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है. खबरों के अनुसार यह कार्रवाई तब की गई जब बैंक खातों की जांच के बाद आयकर अधिकारियों ने अपने आला अफसरों से आशंका जताई कि सान्याल आयात-निर्यात की आड़ में विदेशी लड़कियों का सेक्स रैकेट चला रहा है. इसके बाद मामले की जांच पुलिस को सौंप दी गई.

कहा जा रहा है कि सान्याल सीटीबीटी के चेयरमैन अतुलेश जिंदल के सम्पर्क में था. लेकिन अतुलेश ने किसी सान्याल को जानने से इनकार किया है.

सान्याल के बारे में दावा किया जाता है कि वह आरएसएस की विचारधारा का समर्थक है. यह भी दावा किया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेन्द्र मिश्रा के नाम से वह कई मंत्रालयों में फोन भी करता रहा है. सफदरजंग इन्कलेव में छापे के दौरान आयकर अधिकारियों को उनके अपने ही विभाग के चार वरिष्ठ अधिकारियों के कागजात मिले जिसमें उनकी भविष्य में होने वाली पोस्टिंग का पूरा ब्यौरा है.

जांच दल को सफदरजंग एन्कलेव स्थित उसके आवास में एक रूसी लड़की भी मिली थी जिसे बाथरूम में बंद किया गया था. पुलिस के अनुसार उस लड़की ने वहां अपनी कलाई की नस काटने की कोशिश भी की जिससे काफी हंगामा हो गया था.

उस लड़की का पासपोर्ट 62 साल के सान्याल ने अपने कब्जे में ले रखा था. सान्याल के आवास से पांच अन्य विदेशी लड़कियों के पासपोर्ट भी बरामद हुए हैं जिससे यह संदेह हो रहा है कि अधिकारियों से काम निकलावाने के लिए वह इन लड़कियोंं का इस्तेमाल करता था.

सान्याल ने दावा किया कि उसके घर में रह रही रूसी लड़की छात्रा है और वह डिप्रेशन में थी. यह घटना तब सामने आई जब आयकर अधिकारियों ने पुलिस में शिकायत की और रूसी दूतावास को इसकी जानकारी दी. खबर है कि लड़की वापस रूस चली गई है. खबरों के अनुसार जून और जुलाई में सान्याल के लखनऊ, एनसीआर और कोलकाता स्थित घरों पर छापे मारे गए थे. बताया जा रहा है कि अधिकारियों को सान्याल के अन्य घरों से भी विदेशी लड़कियां मिली थीं.

इस बीच पता चला है कि सान्याल की देश में 14 संपत्तियां हैं जिन्हें काले धन का इस्तेमाल करके खरीदा गया है. सान्याल को मानव तस्करी के आरोप में तीन दिन की पुलिस हिरासत में सौंप दिया गया है. पुलिस अभी पूर्व कर्नल से पूछताछ कर रही है.

First published: 23 July 2016, 7:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी